Kaam Ki Baat: ऑनलाइन शॉपिंग में बरतें सावधानी, ऑफर के फेर में पड़कर हो सकते हैं ठगी के शिकार

229

ऑनलाइन शॉपिंग के बढ़ते चलन के बीच बहुत सी ऐसी वेबसाइटें होती हैं जिनके जरिए फर्जी प्रॉडक्ट बेचकर बड़े पैमाने पर ठगी को अंजाम दिया जा रहा है.

Online Shopping Fraud: भारत में ऑनलाइन शॉपिंग करने की वालों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ी है. ऑनलाइन शॉपिंग के मामले में भारत दुनियां के शीर्ष देशों में शुमार है. खासकर अमेज़ॉन,फ्लिपकार्ट,मिंत्रा(Myntra) और अजियो(Ajio) जैसे ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म्स के जरिए लोग खूब खरीददारी करते हैं. आखिर करें भी क्यों ना? सही दामों पर अपनी पसंद का प्रोडक्ट बिना कहीं जाए घर तक आ जाता है, उस पर भी अगर आपको प्रोडक्ट पसंद ना आए तो वापस करके या तो दूसरा मंगा लो या फिर पैसे वापस मिल जायेंगे.

ऑनलाइन शॉपिंग के बढ़ते चलन के बीच बहुत सी ऐसी वेबसाइटें होती हैं जिनके जरिए फर्जी प्रॉडक्ट बेचकर बड़े पैमाने पर ठगी को अंजाम दिया जा रहा है. अपनी इस स्टोरी में हम आपको बतायेंगे कि इस तरह कि इस तरह की ठगी से कैसे बचें-

भारी-भरकम ऑफर झांसा देती हैं फर्जी वेबसाइट्स-

नकली प्रोडक्ट बेचने वाली कंपनियां 90 से 95 प्रतिशत तक डिस्काउंट का झांसा देती हैं और आपको नकली प्रोडक्ट कि डिलीवरी करती हैं. चूंकि ये कंपनियां फर्जीवाड़े के लिए ही रातों-रात बनाई जाती हैं तो इनके ऑफर झांसे में आकर जब अनगिनत लोग पेमेंट कर देते हैं उसके बाद ये कंपनियां पैसे लेकर रातों-रात ही गायब भी हो जाती हैं. इसका एक उदाहरण ‘फ्रीडम 251’ स्मार्टफोन भी है. जब लोगों को सिर्फ 251 रुपए में मोबाइल देने का झांसा देकर एक कंपनी करोडों रुपए लेकर भाग गई बाद में इस फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ.

सोशल मीडिया के ज़रिए भी बेचे जाते हैं फर्जी प्रोडक्ट-

आजकल सोशल मीडिया के जरिए प्रचार करके और टेलीग्राम जैसे प्लेटफॉर्म पर ग्रुप बनाकर भी प्रोडक्ट बेचे जाते हैं. लेकिन इनमें ज्यादातर का उद्देश्य नकली सामान को असली बताकर पैसे कमाना या कई बार तो पैसे लेकर गायब हो जाना ही होता है. प्रोडक्ट का सोशल मीडिया पर के तमाम पेजों के जरिए प्रमोशन करवाया जाता है और असली सामान का फोटो डालकर उस सामान को बहुत कम दाम में देने का दावा किया जाता है. अगर आपको प्रोडक्ट डिलीवर किया जाता है वो या तो पूरी तरह से नकली होता है या फिर दिखाए गए सामान की नकल.इस तरह के फर्जीवाड़े से भी आपको सावधान रहना होगा.

सिर्फ विश्वसनीय कंपनियों की बेवसाइट से करें खरीददारी-

फर्जीवाड़े और ठगी से बचने के लिए सिर्फ विश्वसनीय कंपनियों की वेबसाइटों जैसे मिंत्रा(Myntra),फ्लिपकार्ट, अजियो(Ajio) या अमेज़ॉन का ही प्रयोग करें. यहां भी समय-समय पर अच्छे ऑफर आते हैं. बड़े सेलेब्रिटी से एडवर्टाइजमेंट करवाकर या तमाम अन्य वैध तरीकों से प्रचार के द्वारा ये कंपनियों अपने ऑफर की जानकारी आप तक पहुंचाती रहती हैं. अगर इन कंपनियों के ज़रिए कोई गलत प्रोडक्ट आपको डिलीवर हो भी जाता है तो ये कंपनियां अपने ग्राहक को उसके लिए भुगतान करने के लिए जिम्मेदार होती हैं.

नामचीन कंपनियों से मिलती-जुलती बेवसाइट के फर्जीवाड़े से बचें-

यह फर्जीवाड़े का ऐसा तरीका है जिसमें हमारी आँखों के सामने ही हमें ठगा जाता है. इसमें अमेज़ॉन और फ्लिपकार्ट जैसी नामचीन कंपनियों की बेवसाइट से मिलती-जुलती बेवसाइट बनाकर औने-पौने दामों पर प्रोडक्ट बेचने के लिए लिस्ट कर दिए जाते हैं. पूरा पेमेंट लेने के बाद रातों-रात इस तरह की बेवसाइट गायब हो जाती हैं. आपको इस इस तरह के फर्जीवाड़े से बचना होगा और असली और नकली के इस फर्क को पहचानना होगा.

फर्जीवाड़े का शिकार होने पर क्या करें-

अगर आप इस तरह के फर्जीवाड़े या ठगी के शिकार होते हैं इसकी जानकारी पुलिस में दें या उपभोक्ता फोरम में इसकी शिकायत दर्ज करायें.अगर विश्वसनीय ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म से भी आपको इस तरह की समस्या हुई है तो भी आप उपभोक्ता फोरम में इसकी शिकायत दर्ज करा सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here