पटना : मीटर रीडिंग के नाम पर फर्जीवाड़ा, जबरन वसूली करते लोगों के हत्थे चढ़ा बीएमपी जवान

460

पटना : बिहार की राजधानी पटना में बिजली विभाग के फर्जी अधिकारी गिरोह सक्रिय हो गए हैं. इन फर्जी अधिकारियों के साथ बिहार विशेष सशस्त्र पुलिस का एक कॉन्स्टेबल भी लोगों के घरों में घुसकर उनके घरों में लगे बिजली कनेक्शन के बिजली मीटर को टेंपर करने के नाम पर अवैध वसूली को अंजाम देने में लगा हुआ था. बुधवार को बीएमपी के सिपाही समेत दो ठग लोगों के हत्थे चढ़ गए.

फ्लैट में घुसकर वसूली की कोशिशः शास्त्री नगर थाना क्षेत्र के राजा बाजार चौधरी गली के मदीना गैलेक्सी अपार्टमेंट में घुसे एक बीएमपी सहित दो ठगों को शास्त्री नगर थाने की पुलिस ने स्थानीय लोगों के सहयोग से गिरफ्तार किया है. गिरफ्तारी के बाद बीएमपी 1 के जवान ने थाने से भागने का प्रयास भी किया. बिहार विशेष सशस्त्र पुलिस यानी बीसैप 1 का जवान पवन कुमार शास्त्रीनगर थाने से अचानक फरार होने लगा. उसे दौड़ाकर पुलिसकर्मी और स्थानीय लोगों ने पकड़ा.

बीएमपी जवान ने बना रखी थी टीमः दरसल, पवन ने कुछ लोगों के साथ मिलकर एक टीम बनाई थी, जो अलग अलग इलाकों के अपार्टमेंट में घुसकर लोगों को उनके बिजली के मीटर टेंपर होने के नाम पर डरा धमका कर अवैध वसूली करता था. बुधवार की शाम इसी कड़ी में शास्त्री नगर थाना क्षेत्र के मदरसा गली स्थित मदीना अपार्टमेंट के एक फ्लैट में घुसकर फ्लैट मैं मौजूद महिलाओं को और अन्य किरायेदारों को बिजली के मीटर से छेड़छाड़ का हवाला देकर अवैध वसूली करने की कोशिश में लगा था. मौके पर पहुंचे फ्लैट मालिक की सतर्कता की वजह से इन तीनों को गिरफ्तार किया गया.

फ्लैट मालिक ने शक होने पर उल्टे पूछताछ शुरू की: वहीं इस पूरे मामले की जानकारी देते हुए पीड़ित फ्लैट मालिक रिजवान बताते हैं कि वह दुकान पर थे और अचानक उनके घर की महिलाओं ने फोन किया कि उनके घर में बिजली मीटर रीडिंग करने वाले पुलिस के साथ पहुंचे हैं. आनन-फानन में मोहम्मद रिजवान अपने घर पहुंचे. तब उनसे टेंपरिंग का आरोप लगाकर ढाई से चार लाख रुपये जुर्माने की बाते कही गई. हालांकि, उनके भतीजे ने इलेक्ट्रिक विभाग की पढ़ाई कर रखी थी और जब उसने मौके पर मौजूद खुद को मीटर रीडर बता रहे व्यक्ति से इस पूरे मामले की जानकारी लेने की कोशिश की तो मौके पर मौजूद खुद को मीटर रीडर बताने वाला व्यक्ति डर गया.

डरकर सभी ठगों ने खोल दिया राजः रिजवान आगे बताते हैं कि उन्होंने इन सभी को स्थानीय लोगों की मदद से पकड़ा और जब पूछताछ शुरू की तो मौके पर मौजूद बीएमपी के जवान सहित दोनों लोगों ने बताया कि वह इस बीएमपी जवान के साथ मिलकर झांसा दिया. हालांकि शक होने के बाद स्थानीय लोगों ने इन सभी को पकड़ लिया. इन सभी को शास्त्री नगर थाने की पुलिस को सौंपा गया. इसके बाद यह सभी थाने में मौजूद थे. सभी जवान अचानक वहां से भागने लगा.

“मैं दुकान पर था और अचानक घर की महिलाओं ने फोन किया कि यहां बिजली मीटर रीडिंग करने वाले पुलिस के साथ पहुंचे हैं. आनन-फानन में अपने घर पहुंचा. तब उनसे टेंपरिंग का आरोप लगाकर ढाई से चार लाख रुपये जुर्माने की बाते कही गई. भतीजे ने इलेक्ट्रिक विभाग की पढ़ाई कर रखी थी और जब उसने मौके पर मौजूद खुद को मीटर रीडर बता रहे व्यक्ति से इस पूरे मामले की जानकारी लेने की कोशिश की तो मौके पर मौजूद खुद को मीटर रीडर बताने वाला व्यक्ति डर गया” – मो रिजवान ,पीड़ित फ्लैट मालिक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here