महिला से गैंगरेप पर शासकीय चिकित्सक एवं दो आरक्षकों को आजीवन कारावास

281

दुर्ग। छत्तीसगढ़ की दुर्ग जिला अदालत ने बहुचर्चित गैंगरेप मामले में शासकीय चिकित्सक एवं दो आरक्षको को मौत तक जेल मे कैद की सजा सुनाई है।इस बहुचर्चित प्रकरण में पीड़िता ने घटना के कुछ माह बाद ही घर में आत्महत्या कर ली थी।

अभियोजन पक्ष के अनुसार 19 जून 2014 की रात पीलिया से ग्रस्त पीड़िता उपचार के लिए शासकीय अस्पताल सुपेला में भर्ती थी घटना की रात्रि अस्पताल में पदस्थ डॉ गौतम पंडित ने उसे इंजेक्शन लगाकर बेहोश कर दिया,इस दौरान अस्पताल में सुरक्षा गार्ड के रूप में ड्यूटी में तैनात दोनों आरक्षकों सहित शासकीय चिकित्सक ने महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया।इस दौरान आरोपियों ने घटना की अश्लील वीडियो क्लिप को इंटरनेट में डाल देने की धमकी भी दी थी।

दुर्ग की पंचम अपर सत्र न्यायाधीश शुभ्रा पचौरी ने कल इस मामले में सुनाए निर्णय में अभियोजन एवं बचाव पक्ष की दलीलों,गवाहों तथा पत्रावली पर उपलब्ध साक्ष्यों को देखते हुए तीनों आरोपियों को दोषी करार देते हुए उन्हे मौत तक की जेल में कैद की सजा सुनाई।न्यायालय ने आरोपियों को अर्थदंड भी लगाया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here