केरल में क्रिसमस का त्योहार पारंपरिक उत्साह एवं हर्षोल्लास के साथ मनाया गया

285

केरल में बुधवार को क्रिसमस का त्योहार पारंपरिक उत्साह एवं हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस दौरान श्रद्धालु विशेष प्रार्थना और मध्यरात्रि प्रार्थना के लिए चर्च में एकत्र हुए। प्रभु ईसा मसीह के जन्म के क्षण का संकेत देने के लिए चर्च की घंटियां बजते ही, राज्य भर के श्रद्धालु मुख्य गिरजाघर और चर्चों में मध्यरात्रि प्रार्थना के लिए एकत्र हुए जहां वरिष्ठ बिशप एवं पादरियों ने विशेष प्रार्थना का आयोजन किया और क्रिसमस संदेश दिया।

कार्डिनल मार बसेलियोस क्लीमिस ने यहां पट्टम में साइरो मलनकारा कैथोलिक चर्च के सेंट मेरी कैथेड्रल में मध्यरात्रि प्रार्थना का नेतृत्व किया तो पलायम के सेंट जोसेफ मेट्रोपोलिटन कैथेड्रल में आर्चबिशप सूसा पकियम की अगुवाई में प्रार्थना की गई। साइरो मालाबार कैथोलिक चर्च के मेजर आर्चबिशप कार्डिनल जॉर्ज अलेंचरी ने एर्णाकुलम के सेंट मेरी बेसिलिका में प्रार्थना सभा का नेतृत्व किया और क्रिसमस का संदेश दिया।

केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान और मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने क्रिसमस के मौके पर लोगों को बधाई दी। खान ने अपने संदेश में कहा कि क्रिसमस प्रेम, दया एवं क्षमा के भाव को बढ़ावा देने की बात करता है। उन्होंने कहा, “कामना है कि क्रिसमस का जश्न, हमारे जीवन में शांति, समृद्धि और सौहार्द लाए।” विजयन ने सभी मलयालियों से क्रिसमस को भाईचारे एवं सौहार्द की भावना के साथ मनाने की अपील की।

ईसा मसीह का संदेश इस समय काफी महत्त्व रखता है जहां लोगों को धर्म के नाम पर बांटने और नफरत के बीज बोने की कोशिश की जा रही है। विपक्ष के नेता रमेश चेन्नीथला ने उम्मीद जताई कि क्रिसमस के त्योहार से नफरत के काले बादल छंट जाएंगे और प्रेम एवं समझ की नयी सुबह होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here