टीम इंडिया के घातक गेंदबाजों ने बांग्लादेश के खिलाफ पिंक बॉल से खेले गए डे-नाईट टेस्ट मैच में सभी 19 विकेट अपने नाम किए

321

टीम इंडिया की कहर बरपाती तेज गेंदबाजी की चर्चा इस समय चारो तरफ है। हर एक क्रिकेट प्रेमी इशांत शर्मा, मोहम्मद शमी, उमेश यादव और जसप्रीत बुमराह की बातें कर रहा है। इसी बीच टीम इंडिया की तेज गेंदबाजी के पीछे काम करने वाले गेंदबाजी कोच भरत अरुण ने खुलासा करते हुए बताया कि आखिर क्या कारण है जो शमी इन दिनों इतनी खतरनाक गेंदबाजी कर रहे हैं। इतना ही नहीं भारतीय तेज गेंदबाजी की लगातार सफलता का क्या कारण है इस बात से भी पर्दा उठाया।

टीम इंडिया के घातक गेंदबाजों ने बांग्लादेश के खिलाफ पिंक बॉल से खेले गए डे-नाईट टेस्ट मैच में सभी 19 विकेट अपने नाम किए। जिसमें एक बल्लेबाज रिटायर्ड हार्ट रहा था। ऐसे में स्पिनरों को एक भी विकेट ना मिलने के कारण चारो तरफ भारतीय गेंदबाजी की तारीफ हो रही है। जिसमें इशांत शर्मा ने 9 विकेट, उमेश ने 8 तो शमी के नाम 2 विकेट रहे थे।

ऐसे में पिछले एक साल से बेहतरीन सीम पोजीशन के साथ गेंदबाजी करने वाले शमी के बारे में जब कोच भरत अरुण से पूछा गया तो उन्होंने टाइम्स ऑफ़ इंडिया को दिए इंटरव्यू में कहा, “शमी काफी मजबूत खिलाड़ी है। वह अनजाने में हर रोज उपवास करता है। ये उसके अंदर प्राक्रतिक रूप से आता है। जब उसके जीवन में कठिनाई भरा समय चल रहा था तब वो काफी गुस्से में था। उसके बाद मैंने और रवि शास्त्री ने मिलकर उसे समझाया कि वो अपने गुस्से को गेंदबाजी में निकाले और सिर्फ फिट होने पर ध्यान दे। जिसके बाद से शमी एक बैल की तरह काम में जुट गए और सफलता हासिल की।”

इतना ही नहीं टीम इंडिया के गेंदबाजी कोच भरत ने शमी की गेंदबाजी के बारे में आगे कहा, “शमी की सीम और उसका रीलिजिंग पॉइंट के साथ ट्रैजक्ट्री वर्ल्ड क्रिकेट में सबसे शानदार है। 140 से अधिक की गति के साथ जब शमी की गेंद टिप्पा खाने के बाद हिलती है तो बल्लेबाज के पास जज करने के लिए बहुत की कम समय होता है। हालांकि सीम पोजीशन के साथ उसे लैटरल मूवमेंट भी मिलता है। सीधी सीम से जब वो पिच पर हिट करता है तो गेंद खेलने में और मुश्किल होती है। यही कारण है कि शमी खतरनाक होता जा रहा है। इतना ही नहीं हमारे गेंदबाज जमीन से जुड़े रहते हैं क्योंकि उनक अंदर विकेट लेने की भूख बनी रहती है।

वहीं पिंक बॉल टेस्ट क्रिकेट में इशांत शर्मा के 9 विकेट हासिल करने की सफलता के बारे में भरत अरुण ने कहा, ” इशांत जैसे बहुत ही कम गेंदबाज हैं जो गेंद को अंदर और बाहर दोनों तरफ स्विंग कराते हैं। बेन स्टोक्स भी ऐसा ही करते हैं। इशांत को ख़ास तरीके की रिस्ट पोजीशन और उनका लम्बा कद गेंदबाजी में काफी मदद करते हैं। जिसके चलते वो इतने खतरनाक गेंदबाज बनकर उभरे हैं।

दूसरी तरफ भरत अरुण ने अंत में इन सभी गेंदबाजों की क्रिकेट के प्रति ईमानदारी को सफलता का श्रेय दिया। कोच भरत ने कहा, “ये सभी गेंदबाज एक दूसरे के प्रति और टीम मैनेजमेंट के साथ काफी ईमानदार हैं।​ जैसे की सिडनी टेस्ट से पहले इशांत कुछ सही नहीं महसूस कर रहे थे जिसके चलते वो खुद चलकर आए और उन्होंने कहा की वो सिडनी टेस्ट नहीं खलेंगे। जिसके बाद टीम ने तीन तेज गेंदबाज और कुलदीप यादव को टीम में चुना था। ठीक उसी तरह बुमराह भी ऑस्ट्रेलिया दौरे में थकान के बाद न्यूजीलैंड दौरे की जगह आराम करने की मांग रखते हैं। जिसके चलते वो वापस घर आ जाते हैं और अगली सीरीज के लिए खुद को तारो ताजा तैयार करते हैं। इसका श्रेय कप्तान कोहली और कोच रवि शास्त्री को भी जाता है जिन्होंने खिलाड़ियों को इतना स्पेस दे रखा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here