शाह के एक्शन से नॉर्थ-ईस्ट में थमेगा बवाल? त्रिपुरा में संगठनों ने कैब के खिलाफ प्रदर्शन वापस लिया

296

नई दिल्ली। राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के साथ ही नागरिकता संशोधन बिल अब कानून बन चुका है लेकिन नॉर्थ ईस्ट में बवाल थमने का नाम नही ले रहा है। इस बीच नागरिकता संशोधन कानून को लेकर विरोध प्रदर्शन के बीच नॉर्थ-ईस्ट के कई संगठनों ने गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की है। अमित शाह ने सभी संगठनों को भरोसा दिया है कि ये कानून किसी के खिलाफ नहीं है। सरकार गंभीर है और सबकी चिंताओं का पूरा ख्याल रखेगी। गृहमंत्री से मुलाकात के बाद त्रिपुरा के संगठन ने अपनी हड़ताल खत्म कर दी है।

दिल्ली में त्रिपुरा के ज्वाइंट मूवमेंट अगेंस्ट सिटीजनशिप अमेंडमेंट बिल के नेताओं ने गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात के बाद अपनी अनिश्चितकालीन हड़ताल को रद्द करने का फैसला किया है। ज्वाइंट मूवमेंट अगेंस्ट सिटीजनशिप अमेंडमेंट बिल के संयोजक एंथनी देबवर्मा ने कहा, “देश के गृहमंत्री अमित शाह जी से हमारी मुलाकात हुई है। हमारे बीच काफी अच्छी बातचीत हुई है। मैं लोगों से शांति की अपील करता हूं और हमने अपनी अनिश्चितकालीन हड़ताल को रद्द करने का फैसला किया है।“

मुलाकात का सिलसिला आगे बढ़ा। ज्वाइंट मूवमेंट अगेंस्ट सिटीजनशिप अमेंडमेंट बिल नेताओं के बाद शाह ने इस मुद्दे पर त्रिपुरा के शाही परिवार के प्रमुख किरीट प्रद्युत देववर्मन और त्रिपुरा पीपुल्स फ्रंट के अध्यक्ष पटल कन्या जमातिया से भी मुलाकात की और नॉर्थ ईस्ट को लेकर अपने प्लान को समझाया। गृहमंत्री अमित शाह ने विश्वास दिलाया कि बिल किसी के खिलाफ नहीं है।

शाह ने त्रिपुरा के आईपीएफटी और जॉइंट मूवमेंट अगेंस्ट कैब के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात कर नागरिकता संशोधन बिल को लेकर चर्चा की। गृहमंत्री अमित शाह ने सभी संगठनों को भरोसा दिया कि उनकी चिंताओं को दूर करने की हरसंभव कोशिश की जाएगी। इन मुलाकातों को लेकर गृहमंत्री अमित शाह ने ट्वीट भी किया। ट्वीट करते हुए अमित शाह ने लिखा कि मोदी सरकार उनकी चिंताओं को दूर करने का हरसंभव प्रयास करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here