सारकेगुड़ा गोलीकांड, सामाजिक कार्यकर्ताओं ने रद्द किया धरना, दोषियों के खिलाफ कर रहे थे एफआईआर दर्ज करने की मांग

355

बीजापुर, छत्तीसगढ़। बीजापुर के सारकेगुड़ा गोलीकांड के विरोध में आरोपियों के खिलाफ एफआईआर की मांग को लेकर धरने पर बैठे सामाजिक कार्यकर्ता हिमांशु कुमार और सोनी सोढ़ी ने धरना स्थगित कर दिया है। दोनों ने इस केस में आरोपियों के खिलाफ एक्शन के लिए एक माह का समय दिया है।

बता दें न्यायिक जांच रिपोर्ट आने के बाद पीड़ित, दोषियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने बासागुड़ा थाना पहुंचे थे। दोषियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग को लेकर तीन गांवों के आदिवासी बासागुडा थाने के अन्दर धरने पर बैठे थे। ग्रामीणों का कहना है कि जब तक पुलिस प्राथमिकी दर्ज नहीं करती है तबतक वो धरने पर बैठे ही रहेंगे।

ग्रामीणों ने पूर्व सीएम रमन सिंह, तत्कालीन आईजी पुलिस टीजे लांगकुमेर, तत्कालीन आईबी चीफ मुकेश गुप्ता, बासागुड़ा थाना प्रभारी इब्राहिम खान, तत्कालीन पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल, सीआरपीएफ डीआईजी एस इंलगो, तत्कालीन डिप्टी कमांडेंट मनीष बरमौला सहित 204 कोबरा और सीआरपीएफ 85वीं बटालियन के जवानों पर एफआईआर करने का आवेदन पुलिस को दिया। लेकिन बासागुडा थाना प्रभारी के मुताबिक जबतक सरकार या अदालत का निर्देश नहीं होता है तब तक पुलिस प्राथमिकी दर्ज नहीं करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here