CAA और NRC के खिलाफ राजद जारी रखेगा आंदोलन

508

सीएए और एनआरसी के विरोध में आरजेडी फिर से सड़कों पर आंदोलन करने की तैयारी में जुट गई है. नये साल के आगाज के साथ ही आरजेडी एक बार फिर से सीएए और एनआरसी के विरोध में प्रखंड स्तर पर धरना देगी. इसके संबंध में प्रदेश राजद के कार्यकारी प्रधान महासचिव आलोक मेहता ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर जानकारी दी है.

बिहार प्रदेश राष्ट्रीय जनता दल के कार्यकारी प्रधान महासचिव बिहार सरकार के पूर्व मंत्री आलोक कुमार मेहता ने पार्टी के तरफ से एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि सीएए और एनआरसी के आड़ में बीजेपी देश की एकता और अखंडता को समाप्त करने की साजिश कर रही है. बीजेपी कि यह लोकतंत्र विरोधी सरकार ने देश के संविधान की मूल भावना के खिलाफ जाकर सीएए जैसा काला कानून बनाया है. राष्ट्रीय जनता दल इस काले कानून का पुरजोर विरोध करता है और इसके खिलाफ लगातार आंदोलन करता रहा है.

5 जनवरी को पुतला दहन और 11 जनवरी को धरना

इस कानून के विरोध में 21 दिसंबर 2019 को राजद द्वारा राज्यव्यापी बंद का आवाहन माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री लालू प्रसाद यादव के निर्देश पर नेता प्रतिपक्ष श्री तेजस्वी प्रसाद यादव के नेतृत्व में किया गया था. बिहार की आवाम द्वारा बंद को सफल बनाने में सहयोग के लिए राष्ट्रीय जनता दल आभार प्रकट करता है और कार्यक्रमों की श्रृंखला में अगली कड़़ी को जेड़ते हुए बिहार राज्य के सभी प्रखंड मुख्यालयों में 5 जनवरी 2020 को पुतला दहन और 11 जनवरी 2020 को धरना के कार्यक्रम की घोषणा करता है.

21 दिसंबर को आरजेडी ने बुलाया था बिहार बंद

बता दें कि इससे पहले सीएए और एनआरसी के विरोध में तेजस्वी यादव ने बीते 11 दिसंबर को पटना के जेपी गोलंबर पर धरना दिया था. उसके बाद तेजस्वी यादव ने 20 दिसंबर को आरजेडी ऑफिस से मशाल जुलूस निकाला था. और उसके अगले दिन 21 दिसंबर को बिहार बंद का आवाहान किया था. बिहार बंद के दौरान लाखों राजद कार्यकर्ता सड़क पर उतरकर सीएए और एनआरसी के विरोध में प्रदर्शन किया था. इस दौरान कई जगहों पर हिंसक घटना भी हुई थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here