नियमित शराब सेवन से स्मरणशक्ति होती है प्रभावित, घातक डिमेंशिया की भी आशंका

308

हार्वर्ड:नियमित रूप से मदिरा सेवन करने वालों के लिए बुरी खबर है। सप्ताह में 14 ड्रिंक लेना बड़ी उम्र के लोगों को भारी पड़ सकता है। फिर चाहे आप इन ड्रिंक्स को रोज दो-दो पैग के रूप में ले रहे हों य फिर किसी दिन कम और किसी दिन ज्यादा की तरह। खासतौर पर माइल्ड कॉग्नेटिव इंपेरिमेंट (एमसीआई) से पीड़ित लोगों में इस तरह का खतरा अधिक देखने को मिलता है।

जबकि एक उम्र के बाद इस तरह की परेशानी होना बहुत आम बात है। हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के टीएच चान स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के द्वारा किए गए एक ताजा शोध में जो रिजल्ट सामने आए हैं उनके मुताबिक, जो लोग एमसीआई से पीड़ित होते हैं, उनमें डिमेंशिया का खतरा कई गुना बढ़ जाता है अगर वे हर रोज दो पैग लेते हैं। हालांकि इस मात्रा से अधिक ड्रिंक लेने पर इस बीमारी के जल्द होने के चांस बन जाते हैं।

इस शोध में यह भी सामने आया कि जिन लोगों में पहले से एमसीआई के लक्षण नहीं होते हैं और अगर वे डेली रुटीन में दो ड्रिंग पर डे लेते हैं तो उनमें भी इस बीमारी के होने का खतरा तो होता है, लेकिन इसका रेट कम होता है। वहीं अगर एमसीआई से पीड़ित लोग पर डे एक से कम ड्रिंक के हिसाब से अल्कोहल का सेवन करते हैं तो वे खुद को भूलने और भ्रम पैदा करनेवाली इस बीमारी के खतरे से बचा सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here