अमेरिका-ईरान तनाव बढ़ा तो भारत का निर्यात प्रभावित होगा

166

अमेरिका और ईरान के बीच तनाव और बढ़ने की स्थिति में फारस की खाड़ी के इस देश के लिए भारत का निर्यात प्रभावित हो सकता है. निर्यातकों के प्रमुख संगठन फेडरेशन आफ इंडियन एक्सपोर्ट आर्गेनाइजेशन (फियो) ने यह आशंका व्यक्त की है. अमेरिकी ड्रोन हमले में ईरान के शीर्ष जनरल कासिम सुलेमानी की मौत के बाद अमेरिका और ईरान के बीच तनाव बढ़ गया है.

पीटीआई के मुताबिक फियो के महानिदेशक अजय सहाय ने कहा, ‘निर्यातकों ने अभी ईरान को निर्यात को लेकर कोई चिंता नहीं जताई है. यदि तनाव जारी रहता है तो इससे ईरान को भारत के निर्यात पर असर पड़ सकता है.’

भारत के लिए ईरान प्रमुख व्यापारिक भागीदारों में से एक है. ईरान द्वारा भारत को कच्चे तेल, उर्वरक और रसायन का निर्यात किया जाता है. वहीं वह भारत से मोटे अनाज, चाय, कॉफी, बासमती चावल, मसालों का आयात करता है.

वित्त वर्ष 2018-19 में ईरान के लिए भारत का निर्यात 3.51 अरब डॉलर यानी 24,920 करोड़ रुपये का रहा था. इस दौरान आयात 13.52 अरब डॉलर या 96,000 करोड़ रुपये रहा था. व्यापार असंतुलन की प्रमुख वजह भारत द्वारा ईरान से बड़ी मात्रा में कच्चे तेल का आयात है. अभी दोनों देश आपसी व्यापार बढ़ाने के लिए द्विपक्षीय तरजीही व्यापार करार (पीटीए) को लेकर वार्ताएं कर रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here