दिल्ली में हल्ला-बोल: सीएम, मंत्रियों सहित हजारों कार्यकर्ता शामिल

344

रायपुर। कांग्रेस पार्टी आर्थिक मंदी, किसान विरोधी नीतियों, महिला हिंसा, बेरोजगारी और संविधान पर हमले को लेकर मोदी सरकार के खिलाफ शनिवार को नई दिल्ली के रामलीला मैदान में बड़ा प्रदर्शन कर रही है। भारत बचाओ आंदोलन को सफल बनाने के लिए कांग्रेस ने पूरी ताकत झोंक दी है. इस रैली में लाखों लोग जुट रहे हैं। जो केंद्र सरकार की नीतियों का विरोध करेंगे। इस रैली में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समेत कांग्रेस शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्री और कार्यकर्ता शामिल हो रहे हैं. छग में धान खरीदी को लेकर भी कांग्रेसी इस प्रदर्शन में हल्ला बोलेंगे।

7 हजार कांग्रेस कार्यकर्ता पहुंचेे दिल्ली
भारत बचाओ आंदोलन में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, प्रदेश सरकार के मंत्री, पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम समेत तमाम पार्टी के विधायक और आला-नेता भी शामिल होंगे. कांग्रेस की भारत बचाओ रैली में छत्तीसगढ़ से 7000 से अधिक कार्यकर्ता दिल्ली पहुंचेे हैं। इस रैली में छग की ऐतिहासिक भागीदारी होने जा रही है। छत्तीसगढ़ के कोने कोने से ट्रेनों, बसों और गाडिय़ों के काफिले से कार्यकर्ताओं का हुजूम दिल्ली में दाखिल हो रहा है। रैली में कांग्रेस कार्यकर्ताओं को जुटाकर ताकत दिखाने की कोशिश की जाएगी. इस रैली में छत्तीसगढ़ को 2500 रुपये समर्थन मूल्य पर धान खरीदी की अनुमति नहीं देने का मुद्दा भी शामिल है. जिसको लेकर भी मोदी सरकार को घेरने की कोशिश की जाएगी। पहले ये रैली 30 नवंबर को होने वाली थी लेकिन बाद में संसद के शीतकालीन सत्र के मद्देनजर इसको 14 दिसंबर को शिफ्ट कर दिया गया। कांग्रेस की ओर से दिल्ली में 14 दिसंबर को भारत बचाओ रैली का आह्वान किया गया है। इस रैली में देश के विभिन्न् राज्यों से कांग्रेसी कार्यकर्ता और बड़े नेता शामिल होने के लिए दिल्ली रवाना हो रहे हैं। इसी कड़ी में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम के नेतृत्व में सैकड़ों कार्यकर्ता दिल्ली के लिए रवाना हुए।

 

शुक्रवार की दोपहर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और अन्य मंत्री भी दिल्ली रवाना हो गए। प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम के नेतृत्व में कार्यकर्ता विशेष ट्रेन से गुस्र्वार को रवाना थे। एनआरसी बिल, सीएबी के विरोध में इस रैली का आयोजन किया गया है। मंत्री टीएस सिंहदेव ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर छत्तीसगढ़ में सीएबी लागू नहीं करने की मांग की है। छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा कि नागरिकता संशोधन बिल (सीएबी) को हम राज्य में लागू नहीं होने देंगे। इसे लेकर मैं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से बात करूंगा कि संवैधानिक मूल्यों पर इस हमले की अनुमति न दें। इस बिल को लेकर मंत्री टीएस सिंहदेव ने ट्वीट भी किया है।

 

उल्लेखनीय है कि पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर, पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी और केरल के सीएम पिनाराई विजयन ने अपने-अपने राज्यों में नागरिकता संशोधन विधेयक को लागू करने से मना कर दिया है। गुरुवार को सुबह 10 बजे दुर्ग से कांग्रेसियों को लेकर विशेष ट्रेन निकली। रायपुर, तिल्दा, भाटापारा, बिल्हा, उसलापुर, करगीरोड, पेंड्रारोड स्टेशन से कांग्रेसियों को लेते हुए ट्रेन आगे निकली। शुक्रवार को दोपहर तीन बजे तक विशेष ट्रेन के सफदरगंज पहुंचने की संभावना है। इधर, गुस्र्वार रात 8.20 बजे पीसीसी अध्यक्ष मरकाम नियमित विमान से दिल्ली रवाना हुए और रात 10 बजे दिल्ली पहुंचे। पार्टी के प्रदेश महामंत्री शैलेश नितिन त्रिवेदी ने बताया कि 10 से अधिक स्थानों से पार्टी के लोग बसों से दिल्ली रवाना हुए हैं। शुक्रवार को दोपहर 2.45 बजे मुख्यमंत्री दिल्ली के लिए रवाना हुए। वे छत्तीसगढ़ सदन जाएंगे और कार्यक्रम में शामिल होंगे। शनिवार को सभी रामलीला मैदान में मिलेंगे। मुख्यमंत्री बघेल भारत बचाओ आंदोलन के मंच से छत्तीसगढ़ के किसान और उनके धान का मुद्दा उठाएंगे। देशभर से आए कांग्रेसियों को बघेल बताएंगे कि केंद्र सरकार छत्तीसगढ़ के किसानों को प्रति क्विंटन धान पर 25 सौ देने से रोक रही है। सेंट्रल पूल में धान लेने से मना कर दिया है। अतिरिक्त धान को एफसीआइ के गोदाम में रखने की अनुमति नहीं दी जा रही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here