सरकारी स्कूलों के छात्रों की परीक्षा फीस भरेगा सरकार- केजरीवाल कैबिनेट ने लिया फैसला

259

बच्चें अच्छे से पढ़ सके इसलिए सरकार ने सरकारी स्कूलों में छात्रों के लिए एक फैसला लिया हैं। परीक्षा के फीस के कारण कई बच्चें परीक्षा में बैठ नही पाते। ऐसे में देश की राजधानी दिल्ली में विधानसभा चुनाव से ठीक पहले केजरीवाल कैबिनेट ने एक फैसला लिया हैं। वो फैसला यह है कि, अभी परीक्षा में बैठने के सरकारी स्कूलों के छात्रों को परीक्षा फीस नहीं देनी पड़ेगी।

यह फैसला सरकार ने सिर्फ सरकारी स्कूलों के छात्रों के लिए लिया हैं। केजरीवाल कैबिनेट, बोर्ड के परीक्षा की फीस अपनी तरफ से भरने वाला हैं। यह निर्णय छात्रों के लिए खुशी की बात हैं। सरकार ने फीस भरने के साथ-साथ गणित की कोचिंग देने का निर्णय लिया हैं, क्योंकि गणित विषय में ज्यादातर बच्चें फेल होते हैं या कम नंबर लाते हैं। छात्र गणित विषय को अच्छे से पढ़ पाए इसलिए गणित विषय की कोचिंग अलग से सरकार देने वाला हैं।

दिल्ली के बच्चें बोर्ड परीक्षा के समय अच्छे से पढ़ पाए इसलिए सरकार ने कहा है कि, ‘दिल्ली में दो लाख 10 हजार स्ट्रीट लाइट लगने वाले हैं और ऊपर से जितनी भी स्ट्रीट लाइट की जरूरत पड़ेगी उतनी लाइट सरकार लाने वाला हैं। यह काम चार महीने के अंदर पूरा होगा। लोग अपने घरों में स्ट्रीट लाइट जा कनेक्शन दे सकेंगे इसका पूरा इंतजाम दिल्ली सरकार करने वाला हैं और इसका पूरा बिल भी दिल्ली सरकार देगा। केजरीवाल कैबिनेट ने 11वीं और 12वीं के छात्रों को, 1000 रुपये प्रति बच्चा देने का निर्णय लिया हैं। यह निर्णय लेने का सरकार का एक ही उद्देश्य है कि, बच्चें नोकरी के साथ बिजनेस के लिए भी सोच पाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here