बिहार में सुशील मोदी और नीतीश कुमार के अलावा किसी को वैल्यू नहीं देते हैं गिरिराज सिंह

223

बिहार में विधानसभा चुनाव 2020 में होना है. अभी चुनाव में काफी वक्त है लेकिन चुनाव से पहले ही बयानबाजियों और बयानों के माध्यम से वार-पलटवार का दौर शुरु हो गया है. झारखंड चुनाव में बीजेपी की हार के बाद से बिहार को लेकर लगातार बयान बाजी हो रही है. हाल ही में जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने एक बयान दिया था.

प्रशांत किशोर ने अपने बयान में कहा था कि बिहार विधानसभा चुनाव में जेडीयू, बीजेपी के साथ 50-50 के फॉर्मूले पर सीटों का बंटवारा नहीं करेगी. उन्होंने कहा था कि बिहार चुनाव में सीट बंटवारे का अनुपात 1:1.4 होगा.

बढ़ गई है राजनीतिक सरगर्मी

जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर के इस बयान के बाद अब राजनीतिक सरगर्मी फिर बढ़ गई है. उनके पार्टी के ही राष्ट्रीय महासचिव आरसीपी सिंह और एनडीए के घटक दल बीजेपी के नेता गिरिराज सिंह ने उनके बयान पर पलटवार किया है. केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि मैं केंद्र में पीएम मोदी, अमित शाह और बिहार में सुशील मोदी और नीतीश कुमार के अलावा किसी को नहीं जानता. बाकी नेताओं के बयानों को वो वैल्यू नहीं देते हैं.

वहीं प्रशांत किशोर के बयान पर जेडीयू के राष्ट्रीय महासचिव और राज्यसभा सांसद आरसीपी सिंह ने भी पलटवार किया है. उन्होंने गया में मीडिया से बात करते हुए कहा कि सीटों का बंटवारा मीडिया में नहीं होता है. कुछ लोगों का काम है केवल बयान देना, मैं उन बयानों पर ध्यान नहीं देता हूं.

वहीं एनपीआर को लेकर गिरिराज सिंह ने एक बार फिर से विपक्षी दलों पर निशाना साधा. उन्होंने विपक्ष को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि अगर वो चाहते हैं कि भारतवंशी मुसलमान जो बंटवारे के समय पाकिस्तान में रह गए थे उन्हें वापस नहीं लाया जाए, अगर वो चाहते है कि रोहिंग्या घुसपैठियों को भारत की नागरिकता दे दी जाए, अगर वो चाहते हैं कि भारत-पाकिस्तान का बॉर्डर खोल दिया जाए ताकि वहां मुस्लिम आएं और उन्हें वोट दें तो खुलकर कहें. और अगर ऐसा नहीं है तो देश के मुस्लिम भाइयों को बरगलाना और बहकाना बंद करें. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की कोई भी योजना मुस्लिम विरोधी नहीं है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here