विकास दर भले ही कम होगी, लेकिन देश में मंदी का खतरा नहीं है : सीतारमण

164

जयपुर। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के द्वारा बुधवार को कहा गया है कि भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर भले ही कट गई होगी लेकिन देश में मंदी का खतरा नहीं है। राज्यसभा में देश की आर्थिक स्थिति पर चर्चा का जवाब देते हुए उन्होंने कई आंकड़े देकर साल 2009 से साल 2014 तक सफल सरकार के कार्यकाल और साल 2014 से लेकर साल 2019 तक भारतीय जनता पार्टी के कार्यकाल के बीच की तुलना भी करने की बात कही है। उन्होंने कहा कि विकास दर भी घट गई होगी लेकिन देश में नहीं आ सकती है।

निर्मला सीतारमण के द्वारा कहा गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में महंगाई कम रही है और विकास दर ज्यादा रही है।उन्होंने कहा कि साल 2009 से 2014 के बीच में देश में करीब 189.5 अरब डॉलर का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश आया था वही जबकि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकाल में 283.9 अरब डॉलर का प्रत्यक्ष निवेश आया है।

इसके अलावा अर्थव्यवस्था में नकदी की किल्लत की अवधारणा को खारिज करते हुए उन्होंने यह भी कहा कि लोन मिलेगी जरिए सरकार के द्वारा 2.5 लाख करोड़ के रुपयों का लोन वितरण करा गया है। उन्होंने कहा कि इंसॉल्वेंसी एंड बंकृप्सी करोड का परिणाम अच्छा मिल रहा है और बैंकों में करीब ₹17000 की पूंजी का निवेश होने से नगदी में बढ़ोतरी भी देखने को मिली है।

इसके अलावा विकास दर घटने को लेकर उन्होंने कहा कि ट्विन बैलेंस शीट प्रॉब्लम के देर से दिखे असर के चलते देश की विकास दर घटी है। उन्होंने कहा कि ट्विन बैलेंस शीट प्रॉब्लम से मतलब है कि दो स्तर पर बैलेंस शीट की समस्या आ रही है। उन्होंने कहा एक बड़े पैमाने पर कंपनियों ने भारी भरकम खर्च ले रखे हैं और इसकी किस्तों का भुगतान नहीं कर पा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here