पर्यावरण थिंकटैक शोधकर्ताओं ने किया खुलासा, दुनिया के सभी देशों पर जलवायु परिवर्तन का पड़ा असर

1320

जयपुर।पर्यावरण थिंकटैक के शोधकर्ताओ ने हाल ही में एक रिपोर्ट जारी कर इस बता का खुलासा किया है कि जलवायु परिवर्तन धीरे-धीरे दुनिया भर के सभी देशों को अब अपनी चपेट में लेता जा रहा है।इस होने वाले जलवायु परिवर्तन की आपदा से कोई भी देश अछूता नही रहा है।जलवायाु परिवर्तन के कारण ज्यादातर प्राकृतिक आपदाए जापान, फिलीपींस, फ्रांस में आई है क्योकि इन शीर्ष देशों में पिछले साल प्रतिकूल मौसम से सबसे अधिक नुकसान हुआ है।

पर्यावरण थिंकटैक शोधकर्ताओं ने इस बता कीजानकारी देते हुए बताया है कि मैडागास्कर और भारत जलवायु परिवर्तन के कारण हुए नुकसान के मामले में इन देशों से ठीक बाद में शामिल है।पर्यावरण थिंकटैंक जर्मनवॉच की ओर से जारी की गई इस रिपोर्ट में बताया गया है कि जापान ने पिछले साल बारिश के बाद बाढ़ व दो बार गर्मी और बीते 25 सालों में सबसे विनाशकारी तूफान का सामना इस बार किया है।

जापान में हेगिबीज के कारण पूरे देश में सैकड़ों लोगों की मौत हुई, हजारों लोग बेघर हुए और करीब 35 अरब डॉलर का नुकसान भी हुआ था।इसके अलावा वैश्विक जलवायु खतरा सूचकांक के अुनसार श्रेणी-5 का मैंगहट तूफान इस साल का सबसे शक्तिशाली चक्रवाती तूफान रहा है जो कि बीेते माह सितंबर में उत्तरी फिलीपींस से होकर गुजरा था।

जलवायु परिवर्तन के चलते इस बार कही पर अधिक बरसात हुई जिससें की वहां भीषण बाढ आ गई तो कही पर सूखा पडा और भीषण गर्मी और तपिश का भी सामना करना पडा है।

जलवायु परिवर्तन के कारण ही बीते साल साल 2003 में तपिश की वजह से पश्चिमी यूरोप में खासतौर पर फ्रांस में करीब 70 हजार लोगों की मौत हुई थी।इस रिपोर्ट में बताया गया है कि जलवायु परिवर्तन के कारण गत 20 सालो इसका असर विश्व के सभी देशो पर पडा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here