क्या आप देहरादून से जुड़े इन रोचक तथ्यों के बारे में जानते हैं ?

236

देहरादून भारत के उत्तराखंड राज्य का राजधानी शहर है, जो अपनी अनोखी जीवनशैली, खूबसूरत परिवेश, प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थानों के लिए जाना जाता है। इस शहर की भौगोलिक स्थित बेहद खास है, जहां से राज्य के अन्य पहाड़ी पर्यटन स्थलों के लिए आराम से जाया जा सकता है। घूमने-फिरने और देखने योग्य यहां बहुत से शानदार स्थल मौजूद हैं, जिनमें बुद्धा टेंपल, एफआराई, रोवर्स केव, सहस्त्रधारा, टपकेश्वर मंदिर, राजाजी नेशनल पार्क, गुरु राम राय दरबार साहिब आदि शामिल हैं। इस शहर का इतिहास कई साल पुराना है, ब्रिटिश काल के दौरान यह एक महत्वपूर्ण केंद्र हुआ करता था। एक यादगार अवकाश के लिए यह शहर एक आदर्श विकल्प है। आज इस लेख में हम आपको देहरादून से जुड़े उन रोचक तथ्यों के बारे बताने जा रहे हैं, जिनके बारे में शायद आपको भी पता न हो। शहर की स्थापना बहुत कम लोग इस विषय में जानते हैं, कि देहरादून की स्थापना 18 शताब्दी के दौरान एक सिख गुरु द्वारा की गई थी। जी हां, और उनका नाम है, गुरु राम राय। माना जाता है कि सिख धर्म के अनुयायियों का दून आगमन 1675 में हुआ था, जहां वे 24 वर्षों तक लगातार रहें।

यह वो समय था जब सिखों के सातवें गुरु, गुरु हर राय के बड़े बेटे का यहां का आगमन हुआ था, और तभी दून अस्तित्व में आया। गुरु राम राय के सम्मान में प्रतिवर्ष धामवाला गांव में भव्य मेले का आयोजन किया जाता है क्या आप देहरादून शब्द का अर्थ जानते हैं? देहरादून दो शब्द से मिलकर बना है, एक देहरा और दूसरा दून। दहरा का अर्थ होता है डेरा, घर या आश्रय और दून उस घाटी का नाम है, जो हिमालय और शिवालिक के मध्य स्थित है।

एक पौराणिक स्थल बहुत कम लोगों का पता है कि देहरादून एक पौराणिक स्थल है, जिसका उल्लेख केदार खंड क्षेत्र के एक भूभाग के रूप में स्कंद पुराण में किया गया है, वो क्षेत्र जो भगवान शिव के नजदीक माना जाता है। इस शहर के आसपास आपको बहुत से प्राचीन मंदिर दिख जाएंगे। यह स्थल महर्षि गौतम का निवास स्थान रह चुका है, माना जाता है कि महर्षि गौतम दून में काफी समय तक रहे थे। यहां के चंद्रबानी मंदिर में पास एक कुंड है, जो गौतम कुंड के नाम से जाना जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here