रेप की वारदातों को लेकर लोकसभा कांग्रेस नेता अधीर रंजन का विवादित बयान

632

नई दिल्ली: देश में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराधों को लेकर कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी मंगलवार को लोकसभा में विवादित बयान दिया. रेप की वारदातों को लेकर केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधते वक्त अधीर रंजन कुछ ऐसा कह गए जो देश की गरिमा के खिलाफ था. लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने देश में लगातार सामने आ रही रेप की वारदातों पर प्रधानमंत्री से जवाब मांगा.

अधीर रंजन चौधरी ने कहा, ‘रोज 106 बलात्कार होते हैं 10 में से 4 माइनर होते हैं. 4 में से 1 को सजा मिलती है. पीएम का बयान क्यों नहीं आता है, भारत मेक इन इंडिया की दिशा में नहीं, ‘रेप इन इंडिया’ की दिशा में आगे बढ़ रहा है. पीएम कुछ बोलते क्यों नहीं हैं.’

इससे पहले लोकसभा में मंगलवार को जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर हंगामा हुआ. दरअसल सदन में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह  से पूछा था कि राज्य के नेता कितने दिन तक हिरासत में रखे जाएंगे? इसका जवाब देते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि जम्मू कश्मीर में हालात सामान्य है. उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद ऐसा कहा जा रहा था कि वहां खून की नदियां बह जाएंगी, लोग मर जाएंगे. लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

अमित शाह ने कहा कि अनुच्छेद 370 हटने के बाद से कश्मीर में पुलिस की गोली से एक भी मौत नहीं होना कांग्रेस को असामान्य लगता है. जम्मू कश्मीर में निकाय चुनाव शांति से हुए, बच्चे परीक्षा दे रहे हैं ये क्या सामान्य हालात नहीं है. 99.5 प्रतिशत बच्चों ने परीक्षाएं दी. कांग्रेस केवल राजनीतिक गतिविधियों को ही सामान्य हालात मानती है?

इस पर अधीर रंजन चौधरी ने कहा, ‘जम्मू-कश्मीर में राम राज आ चुका है, आपके जवाब से तो ऐसा लगता है.ट्रेडर कहते हैं लाखों करोड़ों का घाटा हो गया, देश के सांसदों को जाने की इजाजत नहीं है. राहुल गांधी को जाने की इजाजत नहीं. ये कौन सी नॉर्मलसी है? बहुत से नेता अभी भी गिरफ्त में हैं, उनको कब छोड़ा जाएगा?

अमित शाह ने अधीर रंजन के सवाल पर कहा, ‘जम्मू-कश्मीर तो नॉर्मल है. लेकिन हम कांग्रेस की स्थिति नॉर्मल नहीं कर सकते. 7 लाख से ज्यादा ओपीडी पेशेंट आए.पुलिस फायरिंग से मौत नहीं हई. ट्रैफिक सामान्य है, नॉर्मल नहीं, पॉलिटिकल एक्ट्विटी कब शुरु होगी यही इनकी नॉर्मल्सी की परिभाषा है. सारे पंचायत के चुनाव हुए हैं. सालों तक इनके शासन में नहीं हुए. शेख अब्दुल्ला को 11 साल जेल में रखा था. प्रशासन को फोन कर इंटरफेयर करने की कोशिश आप करते आए हैं. हमारी प्रथा नहीं है, जब प्रशासन को लगेगा तो जो लोग बंद है उनको भी छोड़ दिया जाएगा.

स्टोन प्लेटिंग 2019 में 544 घटनाएं सामने आई हैं, 11वीं के एग्जाम में 90 फीसदी से ज्यादा लोगों ने एग्जाम दिया है. 20 लाख मोबाइल से ज्यादा पोस्टपेड मोबाइल फोन इस्तेमाल हो रहे हैं. जम्मू-कश्मीर में अभी भी पड़ोसी देश माहौल खराब करने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन सरकार सुरक्षा के हर संभव कदम उठाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here