सीएम नीतीश ने मेडिकल कॉलेज का किया लोकार्पण

427

मेडिकल कॉलेज अस्पताल का लोकार्पण करने के बाद सीएम नीतीश कुमार ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि हर क्षेत्र में विकास का कार्य किया जा रहा है। सड़क, शिक्षा, स्वास्थ्य, सामाजिक उत्थान आदि के दिशा में कई कार्य किए गए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि मेडिकल कॉलेज कैंपस में जननायक कर्पूरी ठाकुर की भव्य प्रतिमा स्थापित की जाएगी। उन्होंने कहा कि चुनाव से पहले प्रतिमा पर माल्यार्पण करने के लिए वे एक बार फिर यहां उपस्थित होंगे। उन्होंने कर्पूरी ठाकुर के जन्मदिवस पर आधिकारिक रूप से मेडिकल कॉलेज में जयंती समारोह मनाने की बात भी कही।

कोसी और सीमांचल क्षेत्र में मेडिकल कॉलेज का ऐतिहासिक तोहफा 
उधर स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि कोसी और सीमांचल क्षेत्र में मेडिकल कॉलेज का ऐतिहासिक तोहफा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में दिया गया है। यह पल इस इलाके के लोगों के लिए यादगार रहेगा।

अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस मधेपुरा में मेडिकल कॉलेज अस्पताल खुलने से कोसी और सीमांचल के लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध होगी। यह अस्पताल विश्वस्तरीय अस्पताल की श्रेणी में है। इसमें अत्याधुनिक चिकित्सकीय सुविधाओं के अलावा ऑपरेशन थियेटर, एक्स-रे, एमआरआई, अल्ट्रासाउंड, सिटीस्केन की सुविधा है। मरीजों को डायलिसिस की सुविधा भी अस्पताल में मिलेगी। उन्होंने कहा कि 2005 और 2020 के स्वास्थ्य सुविधाओं की तुलना नहीं की जा सकती है। अब दूसरे चरण में न केवल अस्पताल बल्कि अत्याधुनिक स्वास्थ्य सुविधा और स्वास्थ्य से संबंधित शिक्षा पर काम किया जाएगा।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल को विश्व स्तरीय अस्पताल बनाने का काम भी जल्द शुरू कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि 9200 एग्रेड नर्स और 6400 चिकित्सकों की बहाली की प्रक्रिया भी जल्द पूरी कर ली जाएगी। ऊर्जा मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि जननायक मेडिकल कॉलेज अस्पताल में निर्वाध बिजली आपूर्ति की व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए 2.25 करोड़ रुपये स्वीकृत किया गया है। निर्वाध बिजली आपूर्ति के लिए इस अस्पताल को सिंहेश्वर पावर ग्रिड से सीधे जोड़ा जाएगा। उन्होंने कर्पूरी ठाकुर की भव्य प्रतिमा भी मेडिकल कॉलेज कैंपस में स्थापित करने की आवश्यकता बतायी।

मंत्री रमेश ऋषिदेव ने कहा कि अब इलाज के लिए क्षेत्र के लोगों को पटना, दरभंगा नहीं जाना पड़ेगा। मंत्री नरेंद्र नारायण यादव ने कहा कि कोसी- सीमांचल को मेडिकल कॉलेज के रूप में बड़ा तोहफा दिया है। सांसद दिनेशचंद्र यादव ने कहा कि जिले के लिए ऐतिहासिक दिन है। विधानसभा चुनाव में सीएम के विकास को याद रखना है। सुपौल के सांसद दिलेश्वर कामत ने कहा कि इस मेडिकल कॉलेज अस्पताल से पांच जिले के लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध हो सकेगी।

इसी सत्र से कॉलेज में शुरू होगी पढ़ाई
मेडिलक कॉलेज अस्पताल के उद्घाटन समारोह में स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने कहा कि सत्र 2020-21 से मेडिकल कॉलेज में 100 छात्रों का नामांकन कर पढ़ाई शुरू कर दी जायेगी। उन्होंने कहा कि अस्पताल के विभिन्न विभागों में 500 बेड की सुविधा उपलब्ध है। अस्पताल और कॉलेज भवन का 60 प्रतिशत हिस्सा वातानुकूलित है। उन्होंने बीएनएमयू प्रशासन को मेडिकल कॉलेज के लिए उपलब्ध करायी गयी 25 एकड़ जमीन के लिए आभार जताया।

उन्होंने कहा कि मेडिकल कॉलेज अस्पताल भवन का निर्माण कार्य भूकंपरोधी संरचना के रूप में ग्रीन बिल्डिंग मानकों के साथ कराया गया है। इसके अलावा अग्निशमन उपकरण भी लगाये गये हैं। यहां 280 किलोवाट पावर की व्यवस्था है। यहां उपयोग होने वाले पानी का ट्रीटमेंट कर दुबारा इस्तेमाल करने की व्यवस्था भी की गयी है। उन्होंने अस्पताल में उपलब्ध विभिन्न सुविधाओं की भी जानकारी दी। प्रधान सचिव ने बताया कि प्रधानाध्यापक को छोड़ कर प्रध्यापक, सह प्राध्यापक, एसआर ट्यूटर के 92 पदों पर नियुक्ति की गयी है। उन्होंने कहा कि दस दिनों के अंदर 76 जूनियर डॉक्टरों की भी बहाली की जाएगी। उन्होंने बताया कि मेडिकल कॉलेज अस्पताल के लिए 120 नर्सों को भी नियुक्ति पत्र उपलब्ध करा दिया गया है। स्वास्थ्य विभाग की मंशा है कि यह अस्पताल पूरी तरह व्यवस्थित और अनुशासन के माहोल में संचालित हो और कोसी- सीमांचल के लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा प्राप्त हो सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here