लोकवाणी में सीएम भूपेश बघेल ने महिलाओं को बताया पूज्यनीय

250

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश की महिलाओं को अंतराष्ट्रीय महिला दिवस की बधाई दी हैं। रविवार 8 मार्च को लोकवाणी कार्यक्रम में सीएम ने कहा कि साल में एक दिन महिला दिवस मनाने का यह मतलब यह नहीं कि बाकी दिन चिंता नहीं करनी है। सीएम ने कहा कि आज का दिन हम सभी के लिए महिलाओं की सुरक्षा, सम्मान औऱ सुविधाओं पर विचार करने का है।

सीएम ने आज लोकवाणी कार्यक्रम में कहा कि मातृ-शक्ति के बिना इस संसार की कल्पना नहीं की जा सकती, मातृ-शक्ति को हमारे धर्म, अध्यात्म, परम्परा, संस्कार, लोक जीवन में पूजनीय है। मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ में तो देवी को अपने हर स्वरूप में मां माना जाता है। सीएम ने कहा कि मुझे खुशी है कि राज्य में स्त्री-पुरूष अनुपात राष्ट्रीय औसत से बेहतर है और इसमें सुधार भी हो रहा है. रायगढ़ एवं बीजापुर जिले में ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान’ के तहत सराहनीय कार्य किए जा रहे हैं। सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि आदिवासी अंचलों में तो महिलाओं की संख्या पुरूषों से भी अधिक है, जो देश और दुनिया के लिए एक उदाहरण है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि आजादी की लड़ाई में महिलाओं ने पुरूषों के कंधे से कंधा मिलाकर संघर्ष किया था और ये साबित कर दिया था कि वो बराबर की हकदार हैं। सीएम ने कहा कि विगत 7 दशकों का इतिहास गवाह है कि हमनें महिलाओं को अधिकार देकर ही बहुत बड़े अंतर को पाट दिया है। लेकिन देश में कई स्थानों पर ऐसे समूह कार्यरत हैं, जिनकी सोच प्रतिगामी है और जो महिलाओं को समानता का अधिकार देने के उदार विचारों के खिलाफ खड़े होते हैं। इसलिए महिलाओं का संघर्ष लम्बा हो जाता है। सीएम ने कहा कि शासन की सोच और पहल यदि महिलाओं के पक्ष में मजबूती से हो तो चीजें तेजी से बदलती हैं। सीएम ने कहा कि विगत सवा साल से छत्तीसगढ़ सरकार ने ये प्रयास किया है कि महिलाओं के सम्मान को मजबूत अधिकार देकर ही मजबूत किया जा सकता है।

छत्तीसगढ़ की महिलाएं आज हर क्षेत्र में बेहतर काम कर राज्य का नाम देश-दुनिया में रोशन कर रही हैं। महिलाओं के इन कामों को राज्य सरकार प्रोत्साहित कर नई पीढ़ी को आगे बढ़ाने की दिशा में अथक प्रयास कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here