नागरिकता संशोधन बिल : शिवसेना बोली – 25 सालों तक न दिया जाए मतदान का अधिकार

160

नागरिकता संशोधन बिल पर शिवसेना ने सवाल उठाए है. शिवसेना ने मोदी सरकार को विधेयक में संशोधन का प्रस्ताव दिया. शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में लिखा, ‘मोदी सरकार ने साफ कर दिया है कि वह नागरिकता संशोधन बिल पर अडिग है. लेकिन क्या यह विधेयक वोट बैंक की पॉलिटिक्स के लिए पास किया जा रहा है? हम मानते हैं कि हिंदुओं के पास भारत के अलावा कोई दूसरा देश नहीं है, लेकिन अगर वोट बैंक के लिए नागरिकता बिल को पास करने की कोशिश की जा रही है तो यह देश के लिए ठीक नहीं है.’

शिवसेना ने कहा, ‘हमारी मांग है कि जिन अप्रवासियों को नागरिकता दी जाएगी, उन्हें 25 सालों तक मतदान का अधिकार नहीं दिया जाएगा. इस बारे में देश के गृह मंत्री अमित शाह को सोचना चाहिए. क्या यह स्वीकार्य है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here