महिलाओं के लिए जानलेवा साबित हो रहा है सर्वाइकल कैंसर, इन लक्षणों को न करें इग्नोर

211

सर्वाइकल कैंसर भारत में तेजी से अपने पांव पसारता चला जा रहा है। महिलाओं में कैंसर से होने वाली मौत का आम कारण सर्वाइकल कैंसर बन चुका है। एक आंकड़े के अनुसार इस खतरनाक रोग से 15 से 45 साल की उम्र की महिलाएं मौत के मुंह जा रही हैं। सर्वाइकल कैंसर के मामले करीब 34 फीसदी तेजी से बढ़ रहे हैं। पिछले साल आई हेल्थ जनरल की रिपोर्ट के अनुसार अकेले भारत में ही हर साल 54 हजार महिलाओं की मौत का कारण सर्वाइकल कैंसर होता है। इसलिए इस बीमारी को अनदेखा करना आपके लिए खतरनाक साबित हो सकता है। जानें इसके लक्षण और कैसे करें इससे बचाव के बारे में।

योनि से अनियमित रक्तस्राव

अगर आपको पीरियड्स के अलावा योनि से अनियमित रक्तस्राव हो रहा है तो बिना लापरवाही के डॉक्टर से संपर्क करें। बिना देर किए तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए। अगर इस समस्या को समय पर ध्यान नहीं दिया तो यह सर्वाइकल कैंसर का कारण बन सकती हैं। इसके अलावा देखा गया कि मोनोपॉज के बाद जो महिलाएं संबंध बनाती है उन्हें ब्लीडिंग समस्या हो जाती है। अगर ऐसा हो तो तुरंत चेकअप कराए।

इंटीमेशन के दौरान दर्द या खून बहना
अगर इंटीमेशन के समय आपको अधिक दर्द या फिर ब्लीडिंग हो रही है तो समझ लें कि ये सर्वाइकल कैंसर के शुरुआती लक्षण है।

कमर सहित इन हिस्सों में दर्द
अगर आपके हाथ-पैरों में अधिकतर दर्द बना रहता है तो यह सर्वाइकल कैंसर का ही एक कारण है। इसके अलावा तेजी से आपका वजन कम हो रहा है तो आप तुंरत चेकअप कराए। जिससे कि बीमारी का पता सही समय पर लग जाए।

पेट के निचले हिस्से में दर्द
आमतौर पर महिलाओं को पीरियड्स के दौरान पेट के निचले हिस्से में दर्द होता है। लेकिन अगर ये पीरियड्स के अलावा रोजाना रहें तो आपको तुंरत डॉक्टर से चेकअप करान चाहिए।

ऐसे करें सर्वाइकल कैंसर से बचाव

अगर आप इस बीमारी से बचना चाहती हैं तो हर तीन साल के अंतराल में एक बार पैप स्मीयर टेस्ट जरूर करवाए।
महिलाओं को 90 प्रतिशत मामले में ‘ह्यूमन पेपिलोमा’ नामक वायरस के कारण इंफेक्शन होता है। जिससे आप वैक्सीन के द्वारा बच सकती हैं।
जो महिलाएं धूम्रपान करती है उन्होंने कैंसर होने की संभावना ज्यादा होती है। इसलिए आपके लिए बेहतर है कि धूम्रपान से दूर ही रहें।
कई बार कमजोर इम्यून सिस्टम के कारण सर्वाइकर कैंसर होने की संभावना काफी हद तक बढ़ जाती है।
हेल्दी और पोषण तत्वों से भरी चीजों का सेवन ज्यादा से ज्यादा करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here