CAA केवल मुसलमानों के लिए नहीं, सभी भारतीयों के लिए चिंता का विषय, लाइन में सब लगेंगे: ओवैसी

398

हैदराबाद :  AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि संशोधित नागरिकता काननू (CAA) केवल मुसलमानों के लिए नहीं बल्कि सभी भारतीयों के लिए चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि कानून के खिलाफ लगातार संघर्ष करना होगा। हैदराबाद से सांसद ओवैसी ने शनिवार को कहा, ‘मैं क्यों कतार में खड़ा रहूं और साबित करूं की मैं भारतीय हूं। मैंने इस धरती पर जन्म लिया है। मैं नागरिक हूं। सभी 100 करोड़ भारतीयों को कतारों में खड़ा होना पड़ेग। यह केवल मुसलमानों का मुद्दा नहीं है बल्कि यह सभी भारतीयों के लिए चिंता का विषय है। मैं ‘मोदी भक्तों’ से भी यह कह रहा हूं। तुम्हें भी कतारों में खड़ा होना होगा और दस्तावेज लाने होंगे।

दारुस्सलाम में विभिन्न मुस्लिम समूहों की संस्था ‘यूनाईटेड मुस्लिम एक्शन कमेटी’ द्वारा आयोजित एक बैठक में ओवैसी ने कहा कि भारतीय मुसलमानों ने बंटवारे के समय ‘जिन्ना के दो राष्ट्र के सिद्धांत’ को नकारते हुए भारत में रहने का निर्णय लिया था। भारतीय जनता पार्टी के कई मुस्लिम राष्ट्र होने के दावे पर उन्होंने कहा कि हमारा उनसे क्या लेना-देना है। उन्होंने कहा, ‘मुझे केवल भारत की चिंता है। केवल भारत और केवल भारत से प्यार है। (आप कहते हैं) बहुत सारे मुस्लिम राष्ट्र हैं। आप वहां चले जाएं। मुझे क्यों कह रहे हैं।’

‘मैं अपनी इच्छा और जन्म से भारतीय हूं’
ओवैसी ने कहा, ‘मैं अपनी इच्छा और जन्म से भारतीय हूं। अगर आप गोली चलाना चाहते हैं, चलाइए। आपकी गोलियां खत्म हो जाएंगी लेकिन भारत के लिए मेरा प्यार खत्म नहीं होगा। हमारी कोशिश देश को मारने की नहीं बल्कि बचाने की है।’ उन्होंने कहा कि 70 वर्ष बाद भी सम्मान के लिए मुसलमानों की लड़ाई अपमान की बात है। ओवैसी ने कहा कि हमारा अभियान संविधान को ‘बचाने’ के लिए है। उन्होंने कहा कि हम CAA और NRC की खिलाफत करने वाले सभी भारतीयों से अपील करते हैं कि रविवार को अपने-अपने घरों पर राष्ट्रीय ध्वज फहराएं जो ‘फासीवादी ताकतों’ के खिलाफ संदेश दे।

‘अपने-अपने घरों पर फहराएं तिरंगा’
ओवैसी ने कहा कि अपने-अपने घरों पर तिरंगा फहराने से संदेश जाएगा कि यह एक ऐसे व्यक्ति का घर है जिसे देश से प्यार है। संविधान की प्रस्तावना पढ़ते हुए उन्होंने साथियों से उसे दोहराने को कहा और साथ ही किसी तरह की हिंसा में शामिल ना होने की अपील की। इस बैठक में हजारों लोग शामिल हुए, जिसकी शुरुआत राष्ट्रगान से हुई और समापन आधी रात को ओवैसी के भाषण के साथ हुआ। इस बैठक में आयशा और लबेदा फरजाना और असम के मानवाधिकार कार्यकर्ता अमन वदूद जैसी हस्तियों ने भी इस बैठक में अपनी बात रखी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here