दिल्ली जीतने की तैयारी में अमित शाह

173

दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Elections 2020)की रणनीति को अंतिम रूप देने के सिलसिले में बीजेपी (BJP) अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) आज यानी पांच जनवरी को इंदिरा गांधी स्टेडियम में पार्टी के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से संवाद किया। इस कार्यक्रम में दिल्ली से बीजेपी के सातों सांसद और दिग्गज नेता मौजूद रहे।

इस कार्यक्रम में अमित शाह ने अपने भाषण की शुरुआत में ही कहा कि इतनी जोर से भारत माता का जयकारा लगाएं कि नागरिकता संशोधन कानून का विरोध करने वालों के कान के पर्दे फट जाएं। बूथ कार्यकर्ताओं की भीड़ को देखकर शाह ने कहा कि ये दृश्य बताता है कि फरवरी के अंत में दिल्ली में किसकी सरकार बनने वाली है। 13 हजार बूथों से चुन-चुन कर बीजेपी ने कार्यकर्ता इकट्ठा किए हैं।

केजरीवाल और कांग्रेस पर जमकर साधा निशाना
इस दौरान अमित शाह ने केजरीवाल और कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि केजरीवाल ने 5 साल दिल्ली की जनता को धोखा दिया है। इस बार जनता को आम आदमी पार्टी झांसा नहीं दे सकती। केजरीवाल ने दिल्ली की जनता का पैसा केवल विज्ञापनों पर खर्च किया है। हर काम की शुरुआत चुनावों के दौरान की है, जनता जानती है कि ये काम कभी पूरे नहीं होने वाले। निगम के चुनावों में जनता ने बीजेपी को जिताया उसके बाद लोकसभा चुनावों में आम आदमी पार्टी और कांग्रेस का सुपड़ा साफ किया, इससे पता चलता है कि इस बार दिल्ली में बीजेपी की ही सरकार बनेगी।

शाह ने कहा कि बीजेपी ने वादा किया था कि अनधिकृत कॉलोनियों को पक्का कराएंगे। हरदीप पुरी ने पीएम मोदी के आदेश पर रजिस्ट्री देनी शुरू भी कर दी है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अहमदाबाद में साबरमती रिवर फ्रंट की तर्ज पर अब दिल्ली में यमुना रिवर फ्रंट बनाया जाएगा। इससे छठ पूजा के दौरान पूर्वांचलियों को दिक्कते नहीं होंगी। वहीं सिख दंगा पीड़ितों को दिए गए 5 लाख रुपये के मुआवजे की याद भी गृहमंत्री अमित शाह ने दिलाई।

AAP और कांग्रेस ने CAA के खिलाफ भड़काए दंगे- अमित शाह
वहीं नागरिकता कानून पर हिंसा भड़काने का आरपो अमित शाह ने आप और कांग्रेस पर लगाया। उन्होंने कहा कि अपनी वोट बैंक की राजनीति के लिए इन लोगों ने अल्पसंख्यकों को भड़काया और देश में दंगे करवाए। अतं में उन्होंने सीएए पर मोबाइल नंबर 8866288662 के जरिए सभी कार्यकर्ताओं का समर्थन भी लिया। उन्होंने कहा कि हर कार्यकर्ता को घर घर जाकर पीएम मोदी का फोटो, कमल का निशान और बीजेपी की योजनाएं लोगों तक पहुंचानी है। इसकी शुरुआत मैं खुद करने जा रहा हूं। 20 साल से दिल्ली में बीजेपी की सरकार नहीं बनी है। इस बार आप लोगों के सहयोग और परीश्रम से दिल्ली में बीजेपी की सरकार बनेगी।

समझा जाता है कि बूथ सम्मेलन में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह दिल्ली विधानसभा चुनाव के बारे में कार्यकर्ताओं के समक्ष लक्ष्य एवं रणनीति रखेंगे। सम्मेलन में करीब 13,750 बूथ कार्यकर्ताओं के अलावा दिल्ली से पार्टी के सांसद, पार्षद, पूर्व विधानसभा चुनाव प्रत्याशी, मंडल अध्यक्ष, बूथ संयोजक, बूथ प्रबंधन विभाग और शहरी केन्द्र प्रमुख, मोर्चा और प्रदेश पदाधिकारियों के मौजूद रहने की संभावना है।

बूथ प्रबंधन पर खास ध्यान
पार्टी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने बताया कि बीजेपी विधानसभा चुनाव में बूथ प्रबंधन पर खास ध्यान दे रही है और इस बार ‘पन्ना प्रमुख’ के साथ ‘गट प्रमुख’ को भी खास जिम्मेदारी दी गई है। गौरतलब है कि बीजेपी संगठन में पन्ना प्रमुख पर मतदाता सूची के एक पन्ने पर मौजूद मतदाताओं की जिम्मेदारी होती है जबकि गट प्रमुख हर मोहल्ले या क्षेत्र के हिसाब से बनाये जाते हैं।

कम से कम100 नए मतदाता बीजेपी के पक्ष में
पार्टी ने इस बात पर जोर दिया है कि उसके कम प्रभाव वाले बूथ में कम से कम 100 नए मतदाता बीजेपी के पक्ष में जोड़े जाएं। पार्टी ने दिल्ली चुनाव जीतने के लिए 51 फीसद वोट पाने का लक्ष्य रखा है। बीजेपी ने दिल्ली विधानसभा चुनाव को ‘झूठ बनाम सच की लड़ाई’ और ‘अराजकता बनाम राष्ट्रवाद की लड़ाई’ के रूप में पेश करने की रूपरेखा तैयार की है।

गौरतलब है कि दिल्ली में अगले कुछ दिनों में विधानसभा चुनाव की तिथियों की घोषणा होने की उम्मीद है। बीजेपी पिछले 22 वर्ष से अधिक समय से प्रदेश में सत्ता से बाहर है। 2015 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 70 सदस्यीय विधानसभा में केवल तीन सीट ही मिली थी। आम आदमी पार्टी (AAP) को ऐतिहासिक विजय मिली और 67 सीटें हासिल हुईं, जबकि कांग्रेस शून्य पर सिमट गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here