पटना जू में एड्स को लेकर जागरूकता अभियान

12

1 दिसंबर को दुनियाभर में वर्ल्ड एड्स डे मनाया जाता है. ये बीमारी बेहद ही खतरनाक है. इस बीमारी में हमें बहुत सी चीजों का ध्यान रखना पड़ता है. इसको लेकर पटना के संजय गांधी जैविक उद्यान में संजीवनी आई हॉस्पीटल एण्ड रिसर्च इन्स्टीच्यूट के निदेशक एवं प्रख्यात नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. सुनील कुमार सिंह लोगों को जागरूक किया.

डॉ. सुनील कुमार सिंह ने कहा कि इसका उद्देश्य एचआइवी संक्रमण की वजह से होने वाली महामारी एड्स के बारे में जागरूकता बढ़ाना है. एड्स के बारे में कई भ्रांतियां समाज में हैं जिसके कारण लोग एड्स पीड़ित से ग़लत व्यवहार करते हैं.

सिरिंज शेयरिंग है एड्स की बड़ी वजह

इस दौरान उन्होंने बताया कि एचआईवी संक्रमण की सबसे बड़ी वजह सिरिंज शेयरिंग बन रहा है. युवाओं का एक बड़ा वर्ग नशे की चपेट में है. दर्द निवारक, हार्ट और किडनी जैसी बीमारी के इलाज में इस्तेमाल होने वाले इंजेक्शन लोग नशे के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं. विश्व एड्स दिवस के बारे में बताते हुए कहा कि एड्स दिवस 1988 के बाद से एक दिसंबर को हर साल मनाया जाता है, जिसका उद्देश्य एचआइवी संक्रमण के प्रसार की वजह से एड्स के प्रति जागरूकता बढ़ाना है.

एड्स पीड़ितों से करें सामान्य व्यवहार

उन्होंने कहा कि रेड रीबन एचआइवी पॉजिटिव लोगों के साथ एकजुटता और एड्स के साथ जी रहे लोगों के लिए वैश्विक प्रतीक है. डॉ. सिंह ने कहा एड्स को लेकर कई तरह की भ्रांतियां समाज में हैं, कि एड्स पीड़ित के पास बैठने, उसे छूने या साथ खाना खाने से भी यह बीमारी फैलती है. जबकि यह सब महज अफवाह है. एड्स पीड़ित व्यक्ति के साथ भी हर किसी को सामान्य व्यक्ति की तरह व्यवहार करना चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here