बिन सचिवालय पेपर लीक मामले में पुलिस को मिली कामयाबी, 5 आरोपी गिरफ्तार

213
  • बिन सचिवाल क्लर्क के पेपर को लेकर हुई गड़बड़ी में 5 गिरफ्तार
  • पुलिस ने जब्त मोबाइल की मदद से आरोपियों को किया गिरफ्तार

गुजरात में पिछले दिनों गौण सेवा पसंदगी मंडल के जरिए लिए गए बिन सचिवाल क्लर्क इम्तिहान में गड़बड़ी मामले को लेकर पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है. दरअसल, इस मामले में 11 मोबाइल फोन को जब्त करने के बाद पुलिस को पूरे मामले की कड़ी से कड़ी जोड़ने में कामयाबी हासिल हुई.

इतना ही नहीं, इस परीक्षा के पेपर को लीक करने की पूरी साजिश अहमदाबाद के शाह आलम इलाके में मौजूद एम एस पब्लिक स्कूल में रची गई थी. मामले में शामिल पांच आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद दूसरे आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस की अलग-अलग टीमों जांच शुरू कर दी है.

आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद गांधीनगर रेंज आईजी ने एक प्रेस करते हुए कहा कि पूरी साजिश एम एस पब्लिक स्कूल में रची गई थी. स्कूल के प्रिंसिपल के साथ शिक्षक भी इस पूरे मामले में शामिल था.

उन्होंने कहा कि परीक्षा वाले दिन दोपहर को परीक्षा होनी थी लेकिन पेपर सुबह 10 बजे से सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था. दानीलिमड़ा इलाके में मौजूद एम एस स्कूल का संचालन नवाब बिल्डर से जुड़े लोग करते हैं. इस मामले में एक कांग्रेस कार्यकर्ता लखविंदर सिंह को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

जिस स्कूल का नाम सामने आ रहा है उसका संचालन नवाब बिल्डर से जुड़े लोग कर रहे हैं. अभी कुछ दिन पहले नवाब बिल्डर के पोते और कांग्रेस कॉर्पोरेटर सहजाद खान उर्फ सन्नी बाबा को शाह आलम इलाके में सीएए के विरोध में होने वाले विरोध प्रदर्शन के हिंसा मामले में गिरफ्तार किया गया था.

बिन सचिवालय मामले में होने वाली गड़बड़ी का सीसीटीवी फुटेज सामने आने के बाद पूरे मामले ने तूल पकड़ लिया था. नकल होने का मामला सामने आने के बाद उम्मीदवारों ने गांधीनगर में कई दिनों तक आंदोलन किया था जिसके बाद मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया था. एसआईटी की जांच में नकल का खुलासा होने के बाद गुजरात सरकार ने परीक्षा को रद्द करने का ऐलान किया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here