वास्तु : ये 5 पौधे, भूलकर भी घरों में न लगाएं…

38

धर्म। हरियाली और हरा-भरा वातावरण भला किसे पसंद नहीं आता है। बहुत से लोगों को अपने घर में गार्डनिंग करने का शौक होता है। अपने इस शौक को लेकर कई लोग अपने घरों में तरह-तरह के पेड़-पौधे लगाते हैं।

अपने घर को खूबसूरत बनाने और सकारात्मक प्रभाव लाने के लिए लोग अपने घरों ने बहुत सारे अलग-अलग पौधे लगाते हैं।

आजकल हर किसी को फूलों वाले पौधे बेहद पसंद आते हैं। लेकिन हमें अपने घर में कोई भी पौधा लगाने से पहले हमें उन पौधों की सारी जानकारी होनी चाहिए। कई बार ऐसा भी होता है कि घर को महकाने के चक्कर में हम अनजाने में ऐसे पौधे घर ले आते हैं, जिनके आगमन से नकारात्मक ऊर्जा का भी घर में प्रवेश हो जाता है। ऐसे में अगर हम समय रहते उन पौधों को घर से बाहर न करें तो परिवार में नकारात्मक ऊर्जा और कई तरह की परेशानियां घर में प्रवेश कर सकती हैं। तो चलिए हम आपको उन पांच पौधे के बारे में बताते हैं जो आपको भूलकर भी घर में नहीं लगाने चाहिए।

बबूल का पौधा

आयुर्वेद में बबूल को बेहद खास माना गया है। वैसे तो बबूल को एक औषधीय पौधा माना जाता है, जिसके काफी फायदे हैं। लेकिन इस पौधे में कुछ नकारात्मक ऊर्जा भी होती है। बबूल को भूलकर भी घर के अंदर या आसपास कहीं नहीं लगाना चाहिए। हालंकि इस पौधे में खूब सारे कांटे होते हैं। वास्तु शास्त्र का कहना है कि जिन पौधों में कांटे होते हैं, वे जीवन में भी कांटों का ही संचार करते हैं। ऐसा माना जाता है कि इन्हें लगाने से घर में क्लेश और मानसिक बीमारियों का माहौल बना रहता है। इसलिए इसे तुरंत बाहर कर देना चाहिए।

इमली का पौधा

खाने ने खट्टी-मिट्ठी स्वाद वाली इमली भी लोग अपने घरों में लगाना बेहद पसंद करते हैं। वैसे तो इमली खाने में काफी अच्छी लगती है, लेकिन इसका पौधा भूलकर भी अपने घर या आसपास नहीं लगाना चाहिए। जैसे की बबूल को भी घरों में लगाने से मन किया जाता है ठीक उसी प्रकार इमली के पौधे में खूब सारे कांटे होते हैं और इस पौधे में नकारात्मक ऊर्जा का वास होता है। इसलिए इस पौधे को घर में लाने से बचना चाहिए। इसके साथ ही वास्तु शास्त्र के अनुसार अगर किसी जमीन पर पहले से इमली का पौधा उगा हुआ हो तो वहां मकान बनवाने से परहेज करना चाहिए। ऐसा करने से आप मुसीबत में पड़ सकते हैं।

सूखा पौधा

हमारे शास्त्रों में हरे-भरे पौधे को खुशहाली और सुख समृद्धि का रूप माना गया है। इसके ठीक विपरीत जो पौधे सूख रहे हों या धीरे-धीरे सड़ रहे हों, उन्हें घर और आसपास से तुरंत हटा देना चाहिए। वास्तु शास्त्र में कहा गया है कि ऐसे सूखते हुए पौधे घर में नकारात्मक ऊर्जा का संचार करने लगते हैं, जिससे काम बनते-बनते भी बिगड़ जाते हैं। मान्यता है कि इस तरह के खराब पौधों से घर के लोगों को दुख और परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

कपास और रेशम का पौधा

कई पौधे देखने में बेहद खूबसूरत होते हैं इस कारण लोग ऐसे पौधे को घर में रखना पसंद करते हैं। कपास या रेशम के पौधे भी देखने में खूबसूरत लगते हैं। कई लोग घर को सजाने के लिए इन पौधों को घर ले आते हैं। लेकिन वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में कपास या रेशम का पौधा लगाना अशुभ होता है। ऐसा कहाजाता है कि ये पौधे बाहर की धूल-मिट्टी को अपनी ओर खींचते हैं, जिससे घर गंदा रहता है और वहां नकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बढ़ जाता है। इसके साथ ही शास्त्रों के मुताबिक ये दोनों पौधे गरीबी और दुख के वाहक कहे जाते हैं, इसलिए इन्हें भूलकर भी नहीं लगाना चाहिए।

मेहंदी का पौधा

शास्त्रों के अनुसार मेहंदी का पौधा घर के अंदर या बाहर, कहीं भी नहीं लगाया जाना चाहिए। कहा जाता है कि इस पौधे में बुरी आत्माओं का वास होता है। इसलिए जहां भी यह पौधा लगाया जाता है, वहां पर नकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बढ़ जाता है। ऐसे में आपके लिए अच्छा रहेगा गर आप मेहंदी का पौधा न तो आप खुद लगाएं और न ही किसी को उपहार में दें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here