सोनू सूद जन्मदिन :एक स्ट्रगलिंग अभिनेता से देश के जरुरतमंदो के मसीहा बनने की कहानी

63

सोनू सूद ने बॉलीवुड में अपनी अलग पहचान बनाई है। सोनू सूद ने बॉलीवुड में बेशक ज्यादातर विलेन का किरदार निभाया लेकिन असल जिंदगी में वह किसी फरिश्ते से कम नहीं हैं। कोरोना काल में सोनू सूद जरूरतमंदों की हरसंभव मदद करने की कोशिशों में लगे रहे हैं और अब भी यह सिलसिला जारी है। देश में हो या विदेश में सोनू सूद के नाम का परचम लहरा रहा है,आज बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद अपना 49वां जन्मदिन मना रहे हैं.

बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद का जन्म 30 जुलाई 1973 में पंजाब के मोगा में एक मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था। सोनू सूद के पिता कपड़े की दुकान चलाते थे। हर पिता की तरह उनका भी सपना था कि उनका बेटा पढ़ लिखकर कुछ बने। इसलिए उन्होंने सोनू सूद को इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के लिए नागपुर भेज दिया, जहां पर सोनू सूद ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की।

पढ़ाई पूरी करने के बाद सोनू हीरो बनने का सपना देखकर लाखों नौजवानों की तरह 1996 में सपनों की नगरी मुंबई पहुंच गए। सोनू का एक लोकल ट्रेन का पास खूब वायरल हुआ था। ये पास 1997 का था जिसके जरिए सोनू कई किलोमीटर का सफर लोकल ट्रेन के धक्के खाते हुए पूरा करते थे। एक इंटरव्यू के दौरान सोनू ने बताया कि वो महज 5500 रुपए लेकर मुंबई पहुंचे थे जो उन्होंने खुद इकट्ठा किए थे। 3 लोगों के साथ एक कमरा शेयर करते हुए सोनू गरीबी में गुजारा किया करते थे।

सोनू बीते कुछ समय से कोरोना काल में प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाने में मदद करने के चलते चर्चा में आए थे। बिहार के एक शख्स ने घर पहुंचने के बाद उनकी मूर्ति बनवाने का ऐलान किया था, लेकिन एक्टर ने मना कर दिया था और कहा था कि जो पैसे मूर्ति बनवाने में लगेंगे उससे किसी गरीब की मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here