CWG 2022 – पहले ही इंटरनेशनल इवेंट में सागर का सिल्वर पर कब्जा

225

बर्मिंघम में चल रहे राष्ट्रमंडल खेलों में हरियाणा के झज्जर के गांव धांधलान निवासी सागर अहलावत के रजत पदक जीता है। सागर की जीत के लिए उनकी मां ने तो अखंड जोत जलाई। घर व गांव में सागर के रजत पदक जीतने पर खुशी का माहौल है। गांव धांधलान के ग्रामीणों में खुशी की लहर है।परिवार ही नहीं बल्कि गांव के लोगों ने भी रात करीब 1.15 बजे होने वाले सागर के मुकाबले को देखने के लिए जागने का फैसला किया। जो बेटे के मुकाबले के यादगार पलों के गवाह भी बने। हालांकि बॉक्सिंग में सुपर हेवीवेट कैटेगरी यानी 92 किलोग्राम भारवर्ग में सागर अहलावत को रजत से संतोष करना पड़ा। उन्हें फाइनल में इंग्लैंड के डेलिशियस ओरी ने 5-0 से हरा दिया। इस तरह बॉक्सिंग का समापन हो चुका है।सागर अहलावत ने अपनी पहली ही अंतरराष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता में रजत पदक जीता है। अब पहली बार में ही चार साल की कठोर मेहनत के बाद मुक्केबाजी में परचम लहरा रहा है। सागर अहलावत ने 4 अगस्त को अपना क्वार्टर फाइनल मैच 5-0 से जीता था और अब 6 अगस्त को सेमीफाइनल भी उसने उसी अंदाज में 5-0 से जीत कर देश के लिए रजत पदक पक्का किया। अब सागर की नजर आने वाली प्रतियोगिताओं में देश के लिए गोल्ड मेडल जीतने की रहेगी। सागर अहलावत की मां मुकेश देवी ने सागर की जीत को लेकर दादा दूधाधारी की अखंड ज्योत जलाई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here