साहित्य सागर का पाँचवा साहित्यिक महोत्सव वृन्दावन में सम्पन्न

847

काव्य सागर सम्मान से सम्मानित हुए रचनाकार

खरसिया। राष्ट्रीय साहित्यिक संस्था साहित्य सागर का पाँचवा साहित्यिक महोत्सव 21-22 दिसम्बर 2019 को ऋषि सत्संग भवन, वृन्दावन (उत्तर प्रदेश) में सम्पन्न हुआ। इस आयोजन में देशभर के रचनाकारों ने भाग लेकर काव्यपाठ किया जिन्हें काव्य सागर सम्मान से सम्मानित किया गया। इस दौरान श्री सत्यम प्रकाशन द्वारा प्रकाशित 12 साझा व 13 एकल पुस्तकों का विमोचन भी किया गया।

साहित्य सागर से जुड़े छत्तीसगढ़ प्रदेश के सह-संचालक प्रवीण चतुर्वेदी (खरसिया) और शत्रुंजय तिवारी (दुर्ग) ने इस सम्बंध में जानकारी देते हुए बताया कि दो दिवसीय आयोजन की शुरुआत 21 दिसम्बर को प्रात: आयोजन के मुख्य अतिथि महामंडलेश्वर महंत श्रद्धेय राघव दास जी महाराज (ऋषि सत्संग भवन), विशिष्ठ अतिथि पुरुषोत्तम जी महाराज (कामधेनु सेवा संस्थान, मथुरा), रामगोपाल दास जी महाराज (नेमिशारण), हरीमोहन कुण्डलिया (उपसचिव रक्षा मंत्रालय, भारत सरकार) एवं अध्यक्षता कर रहे साहित्य सागर के संस्थापक और राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ ऋषि अग्रवाल आदि की उपस्थिति में माँ सरस्वती की पूजा-अर्चना कर किया गया। सरस्वती माँ की स्तुति व राष्ट्र गान के बाद आयोजन का शुभारम्भ किया गया जिसके तहत सर्वप्रथम मंच पर विराजमान अतिथियों के स्वागत पश्चात उन्हें शब्द सागर सम्मान के तहत शाल व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। इसके बाद आयोजन में शामिल होने आए रचनाकारों ने बारी-बारी से काव्यपाठ किया।

आयोजन के दूसरे दिन 22 दिसम्बर को राधा कृष्ण की पावन भूमि में श्री सत्यम प्रकाशन झुंझुनूं (राजस्थान) द्वारा प्रकाशित 25 पुस्तकों जिसमें 12 साझा संग्रह एवं 13 एकल संग्रह का विमोचन किया गया। विमोचन पश्चात सभी रचनाकारों को साहित्य सागर के संस्थापक और राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ ऋषि अग्रवाल ने काव्य सागर सम्मान के अंतर्गत प्रशस्ति पत्र और स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।

आयोजन के दौरान दोनों दिन मंच संचालन का कार्य साहितय सागर के सह-संचालकों आशीष कुमार, शशांक मिश्र ‘सफ़ीर’, कोमल ‘वाणी’, एवं कुमार गौरव ‘पागल’ ने किया। आयोजन को सफल बनाने में डॉ ऋषि अग्रवाल के मार्गदर्शन में साहित्य सागर के सह-संचालकों श्रीमती अर्चना अग्रवाल, श्रीमती किरण आगाल, श्रीमती स्नेहा अग्रवाल, श्रीमती श्वेता अग्रवाल ‘ग़ज़ल’, सुश्री चंचल माहौर, सुश्री पूनम साहू, एन.सिंह. गोहिल, सुश्री कृतिका ‘प्रकृति’, श्रीमती रजनी झा, श्रीमती प्रज्ञा पाण्डेय और मोहम्मद तौहीद आदि की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

इस आयोजन में छत्तीसगढ़ के रचनाकार दिवाकर चन्द्र त्रिपाठी, श्रीमती रश्मि अग्निहोत्री, श्रीमती वर्षा ठाकुर, श्रीमती अनिता झा, डॉ संध्या शर्मा, गजेन्द्र गिरीश द्विवेदी और अमिताभ कुमार दिवान तथा झारसुगुड़ा (उड़ीसा) से श्रीमती साबित्री मिश्रा भी शामिल हुए।

इस दौरान दूर दराज से आये सब रचनाकारों ने बाँके बिहारी का आशीर्वाद मिला। वृन्दावन धाम के भ्रमण के साथ साहित्यकारों से मेल मिलाप के कारण सबके चेहरे पर ख़ुशी की लहर थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here