मणिपुर में महिला के मामले में एफआरआई के 62 दिनो के बाद भी कार्यवाही नहीं हुई थी

237

4 मई को घाटी के थौबल जिले में महिलाओं को निर्वस्त्र कर घुमाया गया और 18 मई को एक पीड़िता के पति ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। फिर भी, बुधवार को वीडियो सामने आने के बाद ही पुलिस ने कार्रवाई की और गिरफ्तार किया। जब की 62 दिनो से पहले कोई कार्यवाही नहीं की थी। 

मणिपुर में दो महिलाओं के यौन उत्पीड़न के संबंध में शिकायत दर्ज होने और घटना का वीडियो सामने आने के बीच 62 दिनों में, एफआईआर दो पुलिस स्टेशनों में धूल फांक रही है, जबकि राज्य में कई उच्च-स्तरीय बैठकें हुईं।

वीडियो सामने आने और उनके इस्तीफे की मांग के एक दिन बाद बोलते हुए, मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने पुलिस कार्रवाई में देरी को लेके कहा की, “हिंसा जारी रहने के बावजूद 6,000 से अधिक एफआईआर हुईं। वीडियो सामने आने पर पुलिस मामले की पहचान करने की कोशिश कर रही थी। जैसे ही हमारे पास वीडियो आया, हम दोषियों की पहचान कर सके और तुरंत कार्रवाई की गई और हमने मुख्य अपराधी सहित दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

4 मई को घाटी के थौबल जिले में महिलाओं को निर्वस्त्र कर घुमाया गया और 18 मई को एक पीड़िता के पति ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। फिर भी, बुधवार को वीडियो सामने आने के बाद ही पुलिस ने कार्रवाई की और गिरफ्तार किया। जबकि चार में से एक की पहचान 32 वर्षीय मेइतेई के रूप में की गई है, पुलिस ने अभी तक अन्य का नाम नहीं बताया है।

हालांकि इस मामले की जांच में कोई हलचल नहीं देखी गई, राज्य में हिंसा पर चर्चा के लिए कई हाई-प्रोफाइल दौरों और उच्च-स्तरीय बैठकों का दौर देखा गया।

29 मई को गृह मंत्री अमित शाह चार दिवसीय दौरे पर मणिपुर पहुंचे, इस दौरान कई दौर की सुरक्षा समीक्षा बैठकें हुईं और साथ ही कई हितधारकों के साथ बैठकें हुईं। 26 जून को, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने एक उच्च स्तरीय बैठक की, यद अध्यक्षता की जिसमें शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और पेट्रोलियम मंत्री हरदीप सिंह पुरी सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here