मंदी के चलते ऑटो सेक्‍टर से चली जाएंगी 80 हजार नौकरियां

345

नई द‍िल्‍ली: पिछले कुछ महीने से ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री मंदी के दौर से गुज़र रही है। ऑटोमोबाइल सेक्टर में मंदी का असर अब कर्मचार‍ियों को सहना पड़ रहा है। कम डिमांड और वाहन प्रौद्योगिकी में एक विवर्तनिक बदलाव के साथ दुनिया भर के ऑटो कर्मचारियों के लिए यह सबसे खराब वर्षों में से एक है। डेमलर एजी और जर्मनी की लक्जरी कार कंपनी ऑडी ने पिछले सप्ताह में लगभग 20,000 नौकरियों में कटौती की घोषणा की है।

80,000 से अधिक नौकरियों को क‍िया जाएगा खत्म

मि‍ली आंकड़ों के अनुसार, कार निर्माता आने वाले वर्षों में 80,000 से अधिक नौकरियों को खत्म कर रहे हैं। हालांकि जर्मनी में कटौती केंद्रित है, यू.एस.

मंदी से ऑटोमेकर्स के मार्जिन और कमाई में गिरावट जारी

वहीं चीन में भी कटौती की जा रही है, जो उद्योग में सबसे बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार देता है और बिक्री की मंदी में फंस गया है। इलेक्ट्रिक-वाहन स्टार्टअप एनआईओ इंक, जिसने अरबों डॉलर खो दिए हैं और अपने न्यूयॉर्क-सूचीबद्ध शेयरों के प्लममेट को देखा है, सितंबर के अंत तक अपने कर्मचारियों के लगभग 20% को 2,000 से अधिक नौकरियों को दिया। वैश्विक बाजारों में लगातार मंदी से ऑटोमेकर्स के मार्जिन और कमाई में गिरावट जारी रहेगी, जो ऑटोनॉमस ड्राइविंग टेक्नोलॉजी के लिए आरएंडडी खर्च बढ़ने से पहले ही आहत हो चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here