बगैर रत्नों के कैसे पाएं ग्रहों की सकारात्मक ऊर्जा

636

नई दिल्ली। ज्योतिष की एक विधा अंक शास्त्र है। इसमें 1 से 9 तक के प्रत्येक अंक के साथ एक-एक ग्रह को जोड़ा गया है और उसी ग्रह के अनुसार संबंधित व्यक्ति का व्यवहार और व्यक्तित्व तय होता है। यही अंक हमें भविष्य में सफल होने का मार्ग भी दिखाते हैं। चाहे वह कॅरियर की बात हो या जीवन की अन्य बातों की, ये अंक अपने स्वभाव के अनुसार हमारा व्यक्तित्व तय करते हैं। इन्हीं अंकों के साथ इनसे जुड़े ग्रहों की ऊर्जा भी जुड़ी होती है, जिनका सही समय पर उपयोग करके जीवन को सकारात्मक ऊर्जा से भरा जा सकता है। इस ऊर्जा को समझकर, उसके अनुरूप कार्य करके और उससे ऊर्जा लेकर हम अपने स्वभाव को भी बदल सकते हैं और कॅरियर में बेहतर मुकाम भी प्राप्त कर सकते हैं।
इस ऊर्जा को प्राप्त करने के लिए किसी रत्न को धारण करने की जरूरत नहीं है, इनसे संबंधित उपाय करके ग्रहों की ऊर्जा को ग्रहण किया जा सकता है।
भाग्यांक के अनुसार ये उपाय करें
भाग्यांक

इसके लिए जरूरत होती है आपके भाग्यांक की। किसी व्यक्ति की पूरी जन्म तारीख को जोड़कर उसका सिंगल अंक प्राप्त किया जाता है वह भाग्यांक होता है। भाग्यांक निकालने के लिए जन्म की तारीख, जन्म का माह और जन्म का वर्ष जोड़ा जाता है। यदि किसी व्यक्ति की जन्म तारीख 3 जनवरी 2001 है तो भाग्यांक निकालने के लिए 3, 1, 2001 का जोड़ करके एक सिंगल अंक निकाला जाता है। इस जन्म तारीख के लिए यह सिंगल अंक होगा 7. यानी इस व्यक्ति का भाग्यांक हुआ 7, तो उसे अंक 7 के अनुसार परिणाम देखना होगा।

भाग्यांक के अनुसार ये उपाय करें

भाग्यांक 1 सूर्य का प्रतीक है। जिनका भाग्यांक एक है, वे नित्य प्रतिदिन सूर्य के दर्शन करें, अर्घ्य दें, सूर्य के प्रकाश में बैठकर यह सोचें कि जैसे सूर्य सबको प्रकाश देता है वैसे ही वह प्रकाश भी हमें भीतर और बाहर से प्रकाशमान कर रहा है। यह बात अवचेतन मन में बैठकर सकारात्मक असर दिखाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here