पी आर पी का भुगतान नहीं, अफसर नाराज

706

कोरबा। कोल इंडिया प्रबंधन ने कंपनी के 18 हजार कोयला अधिकारियों को वर्ष 2017-2018 के परफ ार्मेंस रिलेटेड पे पी आर पी का भुगतान कर दिया है। अधिकारियों को सप्ताह भर पहले ही पी आर पी का भुगतान किया गया है। लेकिन इससे पहले के वर्ष 2016-2017 के तीन माह के पी आर पी का भुगतान अब तक नहीं किया गया है। जिससे अधिकारियों में नाराजगी है। अफसर लंबित पी आर पी के भुगतान की मांग कर रहे हैं।
कोल इंडिया व उसके सहायक कंपनी के अधिकारियों के लिए वर्ष 2017-2018 के लिए परफ ार्मेंस रिलेटेड पे पी आर पी भुगतान पर प्रबंधन ने सहमति जताई थी। दीपावली तक इस राशि के मिलने की उम्मीद थी। लेकिन कंपनी के करीब 18 हजार हजार अफसरों को दीपावली के बाद इसका लाभ मिला। प्रबंधन ने तीसरे वेतन पुनरीक्षण के नियमों के तहत पी आर पी से संबंधित प्रस्ताव पर प्रबंधन ने भुगतान का निर्णय था। कंपनियों के लिए तय उत्पादकता रेटिंग के आधार पर ही कोयला कंपनियों के अधिकारियों को पी आर पी भुगतान किया जाता है।
पब्लिक इंटरप्राइजेस हर वर्ष सार्वजनिक उपक्रमों की एमओयू रेटिंग निर्धारित करती है। इसके तहत कोल इंडिया के भी सभी कंपनियों का रेटिंग निर्धारित किया जाता है। जो बीते वित्तीय वर्ष में उत्पादन, उत्पादकता, सी एस आर के आधार पर पी आर पी का भुगतान किया जाता है। कोयला अधिकारियों का कहना है कि देर से ही सही पी आर पी का भुगतान कर दिया गया है। लेकिन इससे पहले वर्ष के तीन माह का पी आर पी अब तक नहीं दिया गया है। जिससे अधिकारियों को नुकसान हो रहा है। इससे नाराज अफसरों का कहना है कि लंबित पी आर पी का भुगतान भी जल्द होना चाहिए। कोयला अधिकारी संघ ए आई ए सी ई के संयोजक पी के सिंह राठौर ने कहा कि बीते वर्ष 2016-2017 के तीन माह के लंबित पी आर पी का जल्दी भुगतान होना चाहिए। हमारी ये भी मांग है कि कर्मचारियों के बोनस से अधिक पी आर पी अधिकारियों को मिले ताकि अधिकारियों के काम का उत्साह कम न हो। प्रबंधन को इस ओर विशेष रूप से ध्यान देना चाहिए। इस विसंगति को शीघ्र ही दूर करना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here