निर्विरोध राजद के प्रदेश अध्यक्ष चुने गए जगदानंद सिंह, 27 को औपचारिक ऐलान

57

पटना:  राजद के वरिष्ठ नेता जगदानंद सिंह अब पार्टी के नए प्रदेश अध्यक्ष होंगे। इसका औपचारिक ऐलान 27 नवंबर को होगा। वे रामचंद्र पूर्वे की जगह लेंगे। वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे ने जगदानंद सिंह को बधाई दी है। पूर्वे ने कहा कि मैंने लालू यादव को जगदानंद सिंह के नाम पर विचार करने का सुझाव दिया था। पार्टी उनके नेतृत्व में 2020 का विधानसभा चुनाव लड़ेगी। जगदानंद सिंह रामगढ़ से लंबे समय तक एमएलए रहे हैं। बक्सर से एक बार सांसद भी रह चुके हैं। सिंह की छवि एक ईमानदार और कर्मठ नेता के तौर पर होती है। राजद सरकार में वे जल संसाधन मंत्री रहे हैं। लालू परिवार के करीबी होने के साथ क्षेत्र में काम के लिए भी जाने जाते हैं।
रामचंद्र पूर्वे को लेकर था विरोध
विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजप्रताप खुले तौर पर रामचंद्र पूर्वे का विरोध करते रहे हैं। अक्सर राजद के अंदर पूर्वे के फैसले को लेकर तेजस्वी और तेजप्रताप के बीच विवाद की खबरें आती रहती हैं। ऐसे में पार्टी एक ऐसे नेता की तलाश कर रही थी, जिसकी साफ छवि हो और पार्टी के लिए एक अभिभावक के तौर पर काम कर सके। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के जेल जाने के बाद चुनावों में पार्टी की परफॉर्मेंस लगातार गड़बड़ाती जा रही है। ऐसे में लालू ने जगदानंद सिंह पर भरोसा जताते हुए उन्हें पार्टी की कमान सौंपने का फैसला किया।
जगदानंद सिंह को कमान सौंपना राजद का बड़ा दांव
राजनैतिक जानकार बताते हैं कि सवर्ण आरक्षण बिल का राजद के विरोध करने से एक बड़े वर्ग में पार्टी को लेकर काफी नाराजगी देखने को मिल रही थी। इसी साल हुए लोकसभा चुनाव में राजद एक भी सीट नहीं जीत सकी। रघुवंश प्रसाद सिंह समेत पार्टी के कई वरिष्ठ नेता चुनाव हार गए थे। ऐसे में जगदानंद सिंह को पार्टी की कमान सौंपकर राजद ने बड़ा दांव चला है। पार्टी सवर्णों में यह संदेश नहीं देना चाहती कि राजद अगड़ी जाति के खिलाफ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here