जलवायु वार्ता में देरी की कोशिश कर रहे हैं जीवाश्म ईंधन समूह

480

तेल एवं गैस समूहों पर जीवाश्म ईंधन के इस्तेमाल में कटौती करने को लेकर देरी कराने के लिए प्रायोजनों पर लाखों रुपये खर्च करके और दर्जनों बिचौलियों को भेजकर मैड्रिड में जलवायु वार्ता को प्रभावित करने का आरोप है।

वहीं, वैज्ञानिकों का कहना है कि जीवाश्म ईंधन के इस्तेमाल में कटौती आवश्यक है और ऐसा फौरन होना चाहिए। जलवायु परिवर्तन पर कार्रवाई की मांग करते हुए स्पेन की राजधानी मैड्रिड में हजारों लोग के मार्च करने के एक दिन बाद सात पर्यावरणीय समूहों ने सीओपी25 शिखर सम्मेलन में जीवाश्म ईंधन के प्रतिनिधियों की भूमिका को लेकर चिंता जताई।

2015 के पेरिस समझौते के तहत विभिन्न देश वैश्विक ताप को दो डिग्री सेल्सियस तक कम करने पर राजी हो गए।

संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष वैज्ञानिक समिति ने कहा कि इसके लिए जीवाश्म ईंधन के इस्तेमाल में कमी लानी होगी। मैड्रिड में प्रतिनिधि इस को लेकर बातचीत करने के लिए जुटे हैं कि पेरिस समझौते को किस तरह लागू किया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here