केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा- भारत मुद्रास्फीति को कम करने में सफल, 9 साल में दोगुनी होगी अर्थव्यवस्था

38

नई दिल्ली. वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक है और इसके आगामी 30 वर्षों में बढ़कर 30 हजार अरब डॉलर हो जाने का अनुमान है.

उन्होंने कहा कि यदि भारत प्रतिवर्ष आठ फीसदी की चक्रीय सालाना वृद्धि दर से बढ़ता है तो करीब नौ वर्षों में अर्थव्यवस्था का आकार दोगुना हो जाएगा.

गोयल ने कहा कि वर्तमान में देश की अर्थव्यवस्था का आकार करीब 3200 अरब डॉलर है और आज से अगले नौ वर्षों में इसके 6500 अरब डॉलर हो जाने का अनुमान है. उन्होंने कहा, ”उसके नौ साल बाद यानी आज से 18 साल बाद अर्थव्यवस्था 13,000 अरब डॉलर की हो जाएगी। उसके भी नौ वर्ष बाद यानी आज से 27 साल बाद यह 26,000 अरब डॉलर की हो जाएगी। इस तरह हम विश्वास से कह सकते हैं कि आज से 30 साल बाद भारतीय अर्थव्यवस्था 30 हजार अरब डॉलर की हो जाएगी.”

भारत में मुद्रास्फीति नियंत्रण में

उद्योग मंत्री ने कहा कि आज के चुनौतीपूर्ण दौर में भी देश की अर्थव्यवस्था अच्छी दर से बढ़ रही है. उन्होंने कहा कि यूक्रेन और रूस के बीच युद्ध के कारण वैश्विक बाजारों में कुछ जिसों की किल्लत हो गई है और इससे विश्व की मुद्रास्फीति ऊंची हो गई है लेकिन भारत अपने यहां की मुद्रास्फीति को कम स्तर पर बनाए रख पाया है. केंद्रीय मंत्री गोयल तिरुपुर में आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि तिरुपुर कपड़े का वैश्विक केंद्र बन गया है और 30,000 करोड़ रुपये से अधिक की वस्तुओं का निर्यात करता है जो 37 साल पहले तक महज 15 करोड़ रुपये था. गोयल ने कहा कि देश में इस तरह के 75 कपड़ा शहर बनाने की जरूरत है क्योंकि इस उद्योग में रोजगार के अनेक अवसर हैं.

पारदर्शिता से अर्थव्यवस्था को मिला समर्थन

एक अलग कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि भरोसेमंद एवं निर्णायक नेतृत्व के साथ ही लोकतांत्रिक संरचना के चलते हर स्तर पर पारदर्शिता से भी भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि को समर्थन मिला है. वाणिज्य, उद्योग और कपड़ा मंत्री ने कहा कि देश ने एक स्थिर नीति ढांचे की घोषणा की है और सभी क्षेत्रों में किए गए प्रत्येक निवेश का सम्मान किया है.

अपनी पसंद के विक्रेताओं से जुड़ेंगे ग्राहक

गोयल ने उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (डीपीआईआईटी) के सहयोग से आयोजित सीआईआई के सदस्यों के साथ एक विशेष बैठक में यह बात कही. गोयल ने कहा कि डीपीआईआईटी के सुधार वैश्विक वृद्धि के लिए भारतीय उद्योगों को सशक्त बना रहे हैं. उन्होंने कहा कि ओएनडीसी नेटवर्क (डिजिटल कॉमर्स के लिए ओपन नेटवर्क) की पेशकश से ग्राहक अपनी पसंद के विक्रेताओं के साथ सहजता से जुड़ सकेंगे. मंत्री ने कहा कि मौजूदा ई-कॉमर्स मंच प्रतिबंधात्मक हैं और ये डेवलपर की पसंद के उत्पादों का समर्थन करते हैं, लेकिन ओएनडीसी के जरिए एमएसएमई और स्टार्टअप अपने ग्राहकों के साथ जुड़ने में सक्षम हो सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here