2023 के विधानसभा चुनाव में भाजपा इस राज्य में शायद नहीं खिला पाएगी कमल, टूट रही है धीरे धीरे

69

हाल ही में पूर्वोत्तर राज्य त्रिपुरा में सत्तारूढ़ भाजपा के असंतुष्ट त्रिपुरा विधायक सुदीप रॉय बर्मन और आशीष कुमार साहा, जिन्होंने विधानसभा और पार्टी से इस्तीफा दे दिया, नई दिल्ली में कांग्रेस में शामिल हो गए।

त्रिपुरा, नागालैंड और सिक्किम के लिए AICC प्रभारी, अजय कुमार ने अपने ट्वीट में कहा कि रॉय बर्मन (Sudip Roy Barman) और साहा पार्टी नेताओं राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और प्रियंका गांधी वाड्रा की उपस्थिति में कांग्रेस में शामिल हुए हैं।

त्रिपुरा में 2023 को विधानसभा चुनाव होने वाले हैं लेकिन इससे पहले सत्तारूढ़ भाजपा से कई नेता दूर बना रहे हैं। इस कड़ी में त्रिपुरा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बिरजीत सिन्हा और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष गोपाल रॉय और अजय कुमार सहित अन्य नेता भी दिल्ली में कांग्रेस नेता Rahul Gandhi के आवास पर कांग्रेस में शामिल हुए। साहा और रॉय बर्मन दोनों ने दावा किया कि मार्च के बाद भाजपा के पांच से अधिक विधायक कांग्रेस में शामिल होंगे।

साहा, एक पूर्व मंत्री, ने कहा कि “जो भाजपा विधायक शामिल होने का इरादा रखते हैं, उन्हें कांग्रेस में शामिल होने से पहले कुछ संगठनात्मक और तकनीकी मामलों को पूरा करना होगा। भाजपा विधायकों के अलावा, बड़ी संख्या में भगवा पार्टी के नेता और कार्यकर्ता भी कांग्रेस में शामिल होंगे क्योंकि सभी का भाजपा पार्टी से मोहभंग हो गया है “।

जानकारी दे दें कि रॉय बर्मन (Sudip Roy Barman), साहा और तीन अन्य भाजपा विधायकों आशीष दास, दीबा चंद्र हरंगखाल और बरबा मोहन त्रिपुरा ने पिछले साल अगस्त में अगरतला में एक बड़ी सभा की, जिसमें कई स्थानीय भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। उन्होंने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और अन्य केंद्रीय नेताओं और मंत्रियों और असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा से भी मुलाकात की और उन्हें “त्रिपुरा में कुशासन और मुख्यमंत्री की सत्तावादी कार्यशैली” से अवगत कराया।

पार्टी में विद्रोह को रोकने और शासन को सही करने के लिए, भाजपा के उत्तर पूर्व क्षेत्रीय सचिव (संगठन), अजय जामवाल के नेतृत्व में कई केंद्रीय पार्टी नेताओं ने कई बार राज्य का दौरा किया था।

SOURCE : Daily News360

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here