देवघर रोपवे हादसा : CM हेमंत सोरेन ने उच्चस्तरीय जांच की घोषणा की, 34 लोगों की हुई रेस्क्यू

14

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने त्रिकूट रोपवे हादसे की उच्चस्तरीय जांच कराने की बात कही है. साथ ही इस हादसे में हुई मौत पर गहरी संवेदना प्रकट किया. वहीं, घायलों के जल्द स्वस्थ लाभ की कामना भी की. कहा कि इस मामले की उच्चस्तरीय जांच की जाएगी और जो भी दोषी पाये जाएंगे, उन्हें बख्शा नहीं जाएगा.

देवघर रोपवे हादसे में अब तक दो लोगों की जान चली गयी है. सोमवार को रेस्क्यू के दौरान हेलीकॉप्टर में घुसने से पहले सेफ्टी बेल्ट खुल जाने से दुमका जिला के ककनी गांव निवासी राकेश मंडल करीब 900 फीट नीचे खाई में जा गिरा. जिससे उसकी मौत हो गयी.

सोमवार की शाम अंधेरा होने के कारण रेस्क्यू ऑपरेशन को रोकना पड़ा है. अब भी 13 जिंदगियां फंसी है. वहीं, रेस्क्यू टीम ने 34 लोगों की सकुशल वापसी की है. सोमवार को एयरलिफ्ट करने के दौरान एक व्यक्ति की गिरने से मौत हो गयी. रविवार के दोपहर हादसे के बाद NDRF और जिला प्रशासन की टीम लोगों की सकुशल वापसी में जुटे. वहीं, सोमवार की सुबह भारतीय वायुसेना की हेलीकॉप्टर समेत अर्द्धसैनिक बलों की टुकड़ियां रेस्क्यू ऑपरेशन में जुट गयी. इधर, इस हादसे पर राज्यपाल रमेश बैस और मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने गहरा दुख प्रकट किया है. वहीं, घायलों के जल्द स्वस्थ लाभ की कामना की है.

झारखंड प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने देवघर त्रिकुट रोपवे हादसे पर गहरा दुख जताया है. इस घटना में मृतकों के परिजनों के साथ संवेदना व्यक्त करते हुए घायलों के जल्द स्वास्थ्य लाभ की कामना की है. साथ ही कहा कि इस घटना के बाद राज्य सरकार सक्रिय है. केंद्र सरकार से तत्काल मांगी गयी. इसका ही परिणाम है कि भारतीय वायुसेना समेत अर्द्धसैनिक बल, NDRF की टीम रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटी है.

राज्यपाल रमेश बैस ने देवघर के त्रिकुट पर्वत पर बने रोपवे हादसा अत्यन्त दुखद एवं पीड़ादायक बताया. साथ ही मृतकों के परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की है.

घटना के संबंध में बताया गया कि हेलीकॉप्टर से एयरलिफ्ट किया जा रहा था. इसी बीच एक व्यक्ति गिर गया. जमीन पर गिरते ही व्यक्ति अचेत हो गया और कुछ देर में ही उसने दम तोड़ दिया. बता दें कि भारतीय वायुसेना के दो हेलीकॉप्टर इस बचाव कार्य में जुटे हैं.

रोपवे ट्रॉली में फंसे लोगों को रेस्क्यू करने के दौरान गिरने से एक व्यक्ति की मौत हो गयी. हालांकि, 28 से अधिक लोगों को सुरक्षित निकाला गया है. अभी भी रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है. बता दें कि रोपवे हादसे के दौरान ट्रॉली में 48 लोग फंसे थे, जिसे भारतीय वायुसेना, एनडीआरएफ समेत अर्द्धसैनिक बलों की टीम सुरक्षित निकालने में जुटे हैं.

देवघर रोपवे हादसे मामले को लेकर रांची सांसद संजय सेठ ने राज्य सरकार पर निशाना साधा है. सांसद ने राज्य सरकार को संवेदनहीन करार दिया है. कहा कि पर्यटन मंत्री भी काफी देर बाद मौके पर पहुंचे हैं. उन्होंने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के प्रति जताते हुए कहा कि भारत सरकार ने इस मामले में जो सक्रियता दिखाई, वह बहुत ही प्रशंसनीय है.

झारखंड के पूर्व सीएम रघुवर दास ने देवघर रोपवे हादसा मामले को लेकर हेमंत सरकार पर निशाना साधा है. कहा कि हेमंत सरकार के निर्णय नहीं लेने की क्षमता के कारण 24 घंटे के बाद भी सभी लोग नीचे नहीं उतारे गए हैं. सेना को बुलाने में देरी नहीं करनी चाहिए जानी थी. कहा कि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के एक्शन में आने के बाद से राहत और बचाव कार्य में तेजी आयी है.

त्रिकुट रोपवे हादसे की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंचे गोड्डा सांसद डॉ निशिकांत दुबे सोमवार को भी मौके पर डटे हैं. पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि उनकी कोशिश है कि सभी की सकुशल बरामदगी हो सके. इस हादसे के बाद करीब 48 लोग फंसे हुए हैं. एयरफोर्स का हेलिकॉप्टर समेत एनडीआरएफ की टीम समेत अन्य अर्द्धसैनिक बल रेस्क्यू में जुटे हैं.

त्रिकुट रोपवे हादसे में रेस्क्यू टीम ने अब तक 28 लोगों को सुरक्षित निकाला है. वहीं, ट्रॉली में फंसे शेष 20 लोगों को सुरक्षित निकालने का प्रयास तेज है. इस हादसे में 48 लोग फंसे थे. हादसे के बाद से रेस्क्यू टीम का प्रयास लगातार जारी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here