अब इन दो देशों के बीच शुरू हो सकता है युद्ध! इस तरह की जा रही तैयारियां.जानें

19

नईदिल्ली: ईरान के साथ बढ़ते तनाव के बीच इजरायल ने ऐलान कर दिया है कि वह पश्चिमी एशिया में एक नया एयर डिफेंस एलायंस बनाएगा।

इस नए गठबंधन को मिडिल ईस्‍ट एयर डिफेंस एलायंस नाम दिया गया है। इस गठबंधन का नेतृत्‍व अमेरिका करेगा और इसमें इजरायल के अलावा यूएई, सऊदी अरब, जार्डन और मिस्र भी शामिल हो सकते हैं। इन सभी देशों का ईरान के साथ तनाव चल रहा है। सऊदी अरब के इजरायल से अच्‍छे संबंध नहीं हैं लेकिन वह इजरायल के बनाए एयर डिफेंस सिस्‍टम को खरीदने जा रहा है।

इस नए गठबंधन का ऐलान इजरायल के रक्षा मंत्री बेन्‍नी ग्रांट ने सोमवार को दिए अपने भाषण में किया। इस नए गठजोड़ का मतलब यह है कि इजरायल अपने एयर डिफेंस क्षमता का इस्‍तेमाल उन क्षेत्रीय देशों के साथ मिलकर करेगा जो वर्षों से उसके प्रति शत्रुतापूर्ण व्‍यवहार रखते रहे हैं। इजरायल ने अभी तक यह नहीं बताया है कि उसके इस एलायंस में खाड़ी के कौन-कौन से देश शामिल होंगे। अमेरिका ने भी अभी इस पूरे मामले पर चुप्‍पी साध रखी है।

‘ईरानी राकेट, क्रूज मिसाइल या ड्रोन हमले से बचाव’

ग्रांट ने कहा कि इस MEAD एलायंस के जरिए पश्चिम एशिया के देश ईरानी राकेट, क्रूज मिसाइल या ड्रोन से होने वाले हमले से खुद की ज्‍यादा सुरक्षा कर सकेंगे। ग्रांट ने कहा, ‘यह कार्यक्रम पहले ही शुरू हो गया है और इजरायल तथा अन्‍य देशों पर ईरानी हमले के प्रयासों को सफलतापूर्वक नाकाम करने में सफल हो गया है। एक इजरायली डिफेंस सूत्र ने कहा कि MEAD गठबंधन ईरान के हथियारबंद ड्रोन के खिलाफ पहले से ही काम कर रहा है।

माना जा रहा है कि इस गठबंधन ने पिछले साल ईरानी ड्रोन को इजरायली एफ-35 लड़ाकू विमान के जरिए मार गिराने में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई थी। यह ड्रोन इजरायल के बाहर जासूसी कर रहा था। एक रक्षा सूत्र ने कहा, ‘अब यह स्‍पष्‍ट है कि ईरानी ड्रोन विमान को मार गिराने में एक से ज्‍यादा देश शामिल थे। माना जा रहा कि इजरायल के इस गठबंधन में जॉर्डन, यूएई, सऊदी अरब और मिस्र शामिल हो सकते हैं। महत्‍वपूर्ण बात यह है कि सऊदी अरब और यूएई दोनों ही इजरायल से एयर डिफेंस सिस्‍टम खरीदने के लिए बातचीत कर रहे हैं।

खाड़ी देशों के दौरे पर अमेरिकी राष्‍ट्रपति जो बाइडन

इजरायली रक्षा मंत्री का यह बयान ऐसे समय पर आया है जब अमेरिकी राष्‍ट्रपति जो बाइडन खाड़ी देशों के दौरे पर आने वाले हैं। ग्रांट ने कहा कि इस गठबंधन ने पहले ही इजरायल और अन्‍य देशों को धमकाने के इजरायली प्रयास को विफल कर चुका है। उन्‍होंने कहा कि अमेरिकी राष्‍ट्रपति की यात्रा से इस प्रक्रिया को मदद मिलेगी। यही नहीं अगर ईरान ने इजरायली नागरिकों को निशाना बनाने का दुस्‍साहस किया तो उसे करारा जवाब दिया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here